Breaking News

13 लोगों की जान जाने के बाद अंततः स्टरलाइट फैक्ट्री बंद हुई, वरिष्ठ पत्रकार अर्जुन राठौर की टिप्पणी

Posted on: 25 May 2018 05:49 by Ravindra Singh Rana
13 लोगों की जान जाने के बाद अंततः स्टरलाइट फैक्ट्री बंद हुई, वरिष्ठ पत्रकार अर्जुन राठौर की टिप्पणी

इसमें कोई दो मत नहीं है कि हमारी सरकारें इतनी बेशर्म हो गई है कि सामान्य तौर पर किसी भी नियम अथवा कानून का उल्लंघन होने की शिकायत मिलने के बाद कोई कार्यवाही नहीं की जाती वही मामला जब उग्र रूप लेने लगता है और आंदोलन में जब लोगों की जान जाती है तब ही सरकार इस पूरे मामले पर कोई गंभीर निर्णय ले पाती है यानी यह जरूरी हो गया है कि किसी भी अनियमितता अथवा गलत काम को बंद कराने के लिए आम जनता को अपने प्राणों की आहुति देना ही होगी उसके बाद ही सरकार के पास सुनवाई होगी और वह कोई निर्णय ले पाएगी।

स्टरलाइट फैक्टरी जो प्रदूषण फैला रही थी और जिसके खिलाफ 100 से अधिक दिनों से आंदोलन जारी था लेकिन सरकार ने इस आंदोलन को चलने दिया और फैक्ट्री को बंद करने की या उसके प्रदूषण को रोकने की कोई कार्यवाही नहीं की लेकिन जब चार दिनों पहले आंदोलन उग्र हुआ , तब सरकार ने 13 लोगों की जान जाने के बाद स्टरलाइट फैक्टरी का बंद करने का निर्णय लिया।

यह साबित करता है कि हमारी सरकार आम लोगों के प्रति क्या रवैया रखती है, जो फैक्ट्री बंद की गई है उसने 13 लोगों की जान ली है इस पूरे मामले में फैक्ट्री मालिक के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाना चाहिए और सबसे बड़ी बात तो यह है इस फैक्ट्री को अनुमति कैसे दी गई और राज्य का प्रदूषण निवारण बोर्ड क्या करता रहा यह तमाम सवाल है जो शायद जांच में सामने आएंगे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com