एक महीने में गांगुली ने रच दिया इतिहास, किया ये कारनामा

सौरव गांगुली के BCCI का अध्यक्ष पद संभालने के दूसरे दिन ही दिन डे-नाइट टेस्ट को अपने एजेंडे की प्राथमिकताओं में बताया। इसी दिन उन्होंने भारतीय कप्तान विराट कोहली से इस मामले में सहमति हासिल कर ली।

0
71
sourav ganguly

नई दिल्ली: क्रिकेट की दुनिया में आज का दिन इतिहास बनने वाला है। भारत और बांग्लादेश की टीमें अपने-अपने क्रिकेट इतिहास का पहला डे-नाइट टेस्ट मैच खेलेंगी। कोलकाता के ईडन गार्डेंस में खेला जाने वाला ये मैच इसलिए भी ख़ास है क्योकि ये पल साल 2015 में डे-नाइट टेस्ट की शुरुआत होने के चार साल बाद आया है।

वैसे तो ये लम्हा दोनों देशों के लिए ऐतिहासिक होने वाला है लेकिन भारत के इस सपने को पूरा करने का श्रेय बीसीसीआई के नए अध्यक्ष सौरव गांगुली को जाता है। दरअसल, सौरव गांगुली के BCCI का अध्यक्ष पद संभालने के दूसरे दिन ही दिन डे-नाइट टेस्ट को अपने एजेंडे की प्राथमिकताओं में बताया। इसी दिन उन्होंने भारतीय कप्तान विराट कोहली से इस मामले में सहमति हासिल कर ली।

सौरव गांगुली ने बताया कि जब उन्होंने कप्तान विराट कोहली से डे-नाईट मैच के बारे में पूछा तो उन्होंने आइल लिए अपनी सहमती देने में महज तीन सेकंड का समय लिया। विरत कोहली की सहमती मिलने के बाद गांगुली ने बंगलादेश क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष से डे-नाइट टेस्ट के आयोजन की अनुमति मांगी। जब वहां से भी सहमती मिल गई तब जाकर इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच पर मुहर लगी है।

ये भी दिलचस्प संयोग है कि 22 नवंबर को ही सौरव गांगुली बीसीसीआई अध्यक्ष के तौर पर अपने कार्यकाल का एक महीना भी पूरा कर लेंगे। इसके साथ ही पहला डे-नाईट टेस्ट मैच भी उनके अपने शहर और घरेलू मैदान ईडन गार्डेंस कोलकाता में खेला जा रहा है।

सौरव गांगुली ने इस मैच को ऐतिहासिक बनाने में कोई कसार नहीं छोड़ी है। मैदान से लेकर पूरे शहर को गुलाबी रंग में रंग दिया गया है। इतना ही नहीं, टेस्ट के चारों दिन के सभी टिकट बिक गए हैं। हर दिन करीब 65000 लोग इस टेस्ट को देखने स्टेडियम पहुंचेंगे। इसके साथ ही ये डे-नाईट टेस्ट मैच पिंक बॉल से ही खेला जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here