Breaking News

माफ करो सरकार काम करो

Posted on: 04 Jan 2019 11:59 by Surbhi Bhawsar
माफ करो सरकार काम करो

राजेश राठौर

कमलनाथ सरकार बनने के बाद लग रहा था कि कहीं कोई दिक्कत नहीं होगी लेकिन जिस तरह से सरकार बनने के बाद चल रही उठापटक और उसमें होने वाली गलतियां और गलतफहमी के कारण सरकार को लेकर फिजूल बातें शुरू हो चुकी है। कमलनाथ को शायद पता भी नहीं होगा कि वंदे मातरम् गान हर महीने की पहली तारीख को वल्लभ भवन में होता है। अफसरों की गलती के कारण मुद्दा बन गया। उसको लेकर पूरे देश में बवाल मच गया। जैसा राजनेता हमेशा करते हैं वैसा इस मामले में भी किया। सबने इतना तूफान मचाना शुरू कर दिया जैसे कोई बहुत बड़ा गुनाह हो गया है। खैर कमलनाथ ने भी वंदे मातरम् मामले का पटाक्षेप कर दिया। उसके बाद दूसरा मामला मीसाबंदियों की पेंशन का। उस मामले में भी सरकार के आदेश को सरकार ही ठीक से प्रचारित नहीं कर पाई। अभी सरकार की तरफ से बोलने वाला कोई मंत्री या अधिकृत प्रवक्ता नहीं बना है। इस कारण भी हो सकता है कि जल्दबाजी में गलतियां हो रही है लेकिन सवाल इस बात का उठता है कि इस तरह के मुद्दों को लेकर कमलनाथ को अपने अफसरों को कहना पड़ेगा कि कोई भी पुरानी योजनाओं को लेकर किसी भी तरह का डिसीजन ताबड़तोड़ नहीं लिया जाए। मीसाबंदियों की हम बात करें तो उस मामले में यह होना चाहिए था कि जिन गलत लोगों को पेंशन मिल रही है उनकी बकायदा जांच होती, जांच रिपोर्ट सार्वजनिक कर देते और उसके बाद पेंशन बंद कर दी जाती। वैसे मीसाबंदियों में कई पूर्व विधायक और सांसद भी है जो पहले से पेंशन ले रहे है। फिर उनको दोनों तरह की पेंशन की आखिर क्या जरूरत है।

kamalnath

प्रदेश की भाजपा सरकार का यह फैसला आधा सही आधा गलत कहा जा सकता है लेकिन सरकार को इस मामले में एक और काम करना चाहिए कि जो मीसाबंदी बाद में करोड़पति, अरबपति बन गए उनकी पेंशन तो बंद कर देना ही चाहिए। खैर अब सरकार ने जो आदेश निकाला है उसमें काफी कुछ स्पष्ट कर दिया लेकिन बैठे-बिठाए भाजपा को भी वंदे मातरम् और मीसाबंदी वाले मामले हाथ में आ गये। कितनी बड़ी बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पंजाब की सभा में वंदे मातरम् को लेकर कांग्रेस पर हमला किया। लगता है अब उनके पास केंद्र सरकार के काम बताने के लिये कुछ बचा नही है। कमलनाथ सख्त प्रशासन की छवि वाले हैं लेकिन प्रदेश के अफसरों पर उनको अंकुश लगाना जरूरी है।

सत्ता बदलते ही गिरगिट की तरह रंग बदलने वाले अफसर कब मुसीबत में डाल देंगे पता नहीं चलेगा। वैसे यह बात भी सही है कि सरकार अभी नई दुल्हन की तरह है जिसकी मेहंदी भी अभी नहीं निकली इसलिए कुछ गलतियां हो सकती है। बाद में कमलनाथ ने तत्काल सब ठीक कर दिया ये बड़ी बात है। कमलनाथ को चाहिए कि जो वचन पत्र है उस पर काम और तेजी से शुरू कर दे। किसानों की कर्ज माफी आसान तरीके से करके दिखा दे तो सबके मुंह बंद हो जाएंगे। अभी तो यही कहा जा सकता है माफ करो सरकार, काम करो सरकार। भाजपा की चिंता नहीं, जनता की चिंता करो और अफसरों पर नकल डाल कर रखे।

वरिष्ठ पत्रकार

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com