तो क्या सिर्फ बारहवीं पास है स्मृति ईरानी? So what Smiriti Irani only twelth pass?

0
54
smriti irani

मोदी सरकार में मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी लोकसभा सीट से राहुल गांधी को टक्कर दे रही है। 2014 में भी इसी सीट से स्मृति ईरानी राहुल गांधी के सामने खड़ी हुई थी लेकिन उन्हें मात नहीं दे पाई। 2014 में मानव संसाधन विकास मंत्री के तौर पर शिक्षा और शिक्षण संस्थानों से जुड़े कई नीतिगत फ़ैसले स्मृति को सौंपने पर उनकी डिग्री पर सवाल खड़े कर दिए गए थे।

बताया था बारहवीं पास

2014 लोकसभा चुनाव में अमेठी से चुनावी रण में उतरी स्मृति ईरानी ने अपने नामानन पत्र में बताया था कि वह बारहवीं पास हैं और उसके बाद उन्होंने ‘स्कूल ऑफ़ ओपन लर्निंग’ से कॉमर्स की एक साल की पढ़ाई पूरी की है। उनकी इसी जानकार ने उन्हें कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया था।

must read: रेस्टोरेंट में सफाई करने वाली स्मृति ऐसे बनीं तुलसी | How Smriti irani became famous as Tulsi

दरअसल, 2004 लोकसभा चुनाव में स्मृति ईरानी चांदनी चौक से कपिल सिब्बल के खिलाफ मैदान में उतरी थीं। उस दौरान उन्होंने अपने नामांकन पत्र में बताया था कि उन्होंने बीए की डिग्री 1996 में पूरी की थी.। इससे यह बात तो साफ है कि स्मृति ईरानी का एक हलफनामा गलत है।

हालांकि इस दौरान स्मृति के लिए राहत की बात यह रही कि उन्हें ना सिर्फ पार्टी का साथ मिला बल्कि बाहरी पार्टियों का भी साथ मिला. जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया है कि शिक्षा मंत्री के उच्च शिक्षित होने की मांग करना ऐसा ही है, जैसे कोई कहे कि उड्डयन मंत्री बनने के लिए पायलट और खान मंत्री बनने के लिए खनिक होना जरूरी है।

मॉडलिंग से की करियर की शुरुआत

स्मृति ईरानी ने अपने करियर की शुरुआत मॉडलिंग से की थी। रूढ़िवादी पंजाबी-बंगाली परिवार से ताल्लुक रखने वाली स्मृति ने परिवार की बंदिशों को तोड़कर ग्लैमर की दुनिया में कदम रखा। 1998 में उन्होंने मिस इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लिया लेकिन फाइनल तक नहीं पहुंच पाई।

must read: ट्विटर पर अभिनंदन को ये क्या बोल गए मोदी, हुई सवालों की बरसात | What did PM Modi say about Abhinandan on Twitter

रेस्टोरेंट में करना पड़ी थी सफाई

मिस इंडिया प्रतियोगिता में फाइनल नहीं तक पहुंच पाने के बाद स्मृति मुंबई चलीं गई और एक्टिंग में करियर बनाने की कोशिश की। यहां आने के बाद उन्हें काम तो नहीं मिला बल्कि अपना खर्च चलाने के लिए उन्हें एक रेस्टोरेंट में सफाई का काम तक करने लगी। इसी दौरान स्मृति को मीका के एलबम में काम करने का मौका मिला और यही से उनकी किस्मत चमक गई। इस एलबम के बाद स्मृति को एक दो सीरियल में छोटे रोल मिले।

तुलसी के किरदार का मिला ऑफर

एलबल में काम मिलने के बाद स्मृति की किसमत के दरवाजे खुलते गए और उन्हें एक और बड़ा ऑफर मिला। एकता कपूर ने उन्हें अपने सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ में तुलसी के किरदार के लिए ऑफर दिया। स्मृति तुलसी बनकर हर घर में छा गई और लोग इस सीरियल के दीवाने हो गए। आदर्श बहू के रूप में तुलसी के इस सीरियल से सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और यह सीरियल आठ सालों तक छोटे पर्दे पर छाया रहा। इसके बाद स्मृति ने जुबिन ईरानी के साथ शादी कर ली। साल 2003 में स्मृति ईरानी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुईं।

must read: भाषण के दौरान अचानक ये क्या बताने लगे मोदी | What did PM Modi suddenly shows during the speech

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here