गंभीर बुनियादी कमियों के चलते अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती, आजादी के बाद कभी नहीं हुआ ऐसा: स्वामी

भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने लगातार बिगड़ रही अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार को सुझााव दिया है कि अर्थशास्त्र की समझ रखने वाला व्यक्ति ही आज मौजूदा मंदी से उबार सकता है। ऐसे में सरकार को इन सब से निपटने के लिए अनुभवी राजनेताओं और पेशेवरों की टीम की जरूरत है।

0
100
subramanyam swami

नई दिल्ली। भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने लगातार बिगड़ रही अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार को सुझााव दिया है कि अर्थशास्त्र की समझ रखने वाला व्यक्ति ही आज मौजूदा मंदी से उबार सकता है। ऐसे में सरकार को इन सब से निपटने के लिए अनुभवी राजनेताओं और पेशेवरों की टीम की जरूरत है। ये पेशेवर ऐसे होना चाहिए जो राजनीतिक को अच्छे से समझते हो साथ ही भारतीय विचारों पर भरोसा रखते हो। साथ ही वे अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) तथा विश्वबैंक की लकीर के फकीर नहीं हो।

बीजेपी नेता ने अपनी पुस्तक ‘रिसेटरू रिगेनिंग इंडियाज एकोनामिक लिगैसी’ में लिखा है कि जिन्हे अर्थव्यवस्था की जिम्मेदारी मिली है, उन्हें वास्तविकता का पता नहीं है। वे लोग सिर्फ मीडिया को साधने और बातों में घुमाने में जुटे हुए हैं। अर्थव्यवस्था में कई गंभीर बुनियादी कमियां हैं, जिसके चलते हमारी अर्थव्यवस्था में ऐसी सुस्ती आई है जो 1947 के बाद से कभी नहीं दिखी।

भाजा नेता ने कहा है कि सरकारी उप-समितियों में ऐसे कई सदस्य हैं जिन्हे मात्रात्मक आर्थिक तर्कों को वृहत आर्थिक रूपरेखा में लागू करने को लेकर औपचारिक प्रशिक्षण नहीं है। जैसे संकट के कारणों को चिन्हित करना, अनुकूलतम उपायों की पहचान और संबद्ध पक्षों को उत्साहित करना। स्वामी ने कहा कि क्या मोदी सरकार के पास इस स्थिति से निपटने के लिए आपात नुस्खा तैयार है? उन्होने कहा कि फिलहाल ऐसा नहीं लग रहा है।

हालांकि स्वामी ने उम्मीद जताई है कि भारत इस समस्या से भी निजात पा लेगा। उन्होंने कहा कि स्थिति को सीधे सुधारों के माध्यम से निपटाना जाना चाहिए जो कि लोगों को प्रोत्साहित करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here