कांग्रेस में फिर फूट के संकेत, गोवा में विधायकों ने बीजेपी में शामिल होने की प्रक्रिया तेज की

कांग्रेस की नैया इस बार गोवा में भी डूबती दिखाई दे रही है, लाख छुपाने के बाद भी पार्टी का विद्रोह सामने आ ही रहा है

कांग्रेस की नैया इस बार गोवा में भी डूबती दिखाई दे रही है, लाख छुपाने के बाद भी पार्टी का विद्रोह सामने आ ही रहा है गोवा कांग्रेस में एक बार फिर कई विधायकों की ओर से बीजेपी में शामिल होने का नए सिरे से प्रयास शुरू हो गया है। पिछले हफ्ते बमुश्किल से कांग्रेस पार्टी ने विधायकों के बीच चल रहे विद्रोह पर पर्दा डालने की कोशिश की थी। अब एक बार फिर अटकलें लगाई जा रही है कि कांग्रेस विधायकों का एक समूह गुट बनाने और बीजेपी में शामिल होने के लिए नए सिरे से प्रयास कर रहा है।सूत्रों की मानें तो बीजेपी कांग्रेस को डूबते जहाज के रूप में पेश करने के लिए उत्सुक है और उसने कांग्रेसी नेताओं से अपनी योजनाओं में तेजी लाने के लिए कहा है। कामत और लोबो दोनों ने उन ताजा अटकलों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि वे भाजपा में शामिल होने के लिए तैयार हैं।रविवार को, कांग्रेस ने सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया कि भाजपा ने उनके दो विधायकों दिगंबर कामत और माइकल लोबो के साथ मिलकर साजिश रचने का प्रयास किया था। जरूरी संख्या तक नहीं पहुंचने के बाद यह प्रयास विफल हो गया। वहीं, कांग्रेस नेतृत्व और उसके दो नेताओं के बीच एक असहज की स्थिति बनी रही।

Also Read – सरकार ने घटाए पेट्रोल-डिजल के दाम, देखिये आपके शहर के रेट

गोवा में कामत की गिनती अनुभवी राजनेताओं में होती है। कामत पहली बार 1994 में बीजेपी के टिकट पर विधायक चुने गए थे और तब से दक्षिण गोवा में मडगांव निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। कामत 2005 में तत्कालीन मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व वाली सरकार को गिराने के बाद और केंद्र में यूपीए के सत्ता में आने के बाद उन्होंने कांग्रेस ज्वाइन कर लिया था । इसके बाद साल 2007 में गोवा में गठबंधन वाली एक सरकार का नेतृत्व भी किया और मुख्यमंत्री बने। गठबंधन में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी और अन्य सदत्य शामिल थे ।