चमत्कारों से भरा कैंची धाम, जहां जाने मात्र से बदल जाती है किस्मत

0
65
kainchi dham temple dharmdarshan-

आमतौर पर आप सभी ने देखा होगा कि भारत में ऐसे कई सारे मंदिर है जो अपनी अपनी अलग विशेषताओं के कारण जाने जाते है। साथ ही कई मंदिर ऐसे भी है जहां श्रद्धा एवं भक्ति के साथ काम करने मात्र से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है।

तो अगर आप भी किसी आर्थिक तंगी, घर में कलेश या पैसो की रुकावट से परेशान है तो घबराइए नही आज हम आपके लिए इस समस्या का समाधान लेकर आयें है जहां जाने मात्र से आपके बिगड़े काम बन जायेंगे और आप धनवान के साथ साथ सुख-समृद्धि भरा जीवन जीने लगेंगे।

जी हां, यह सच है क्योंकि हम बात कर रहे है जाने माने एक पावन तीर्थ देवभूमि की जो उत्तराखंड की वादियों में है, और लोग इसे “कैंची धाम” के नाम से जानते हैं। इतना ही नही लोग तो यहां के जाने माने बाबा नीब करौरी को श्री हनुमान जी का अवतार मानते है। आइयें जानते है इस मंदिर की खासियत….

15 जून लगेगा महामेला
आपको बता दे कि बाबा नीब करौरी ने इस आश्रम की स्थापना 1964 में की थी और 1961 में वह पहली बार यहां आए और उन्होंने अपने पुराने मित्र पूर्णानंद जी के साथ मिल कर यहां आश्रम बनाने का विचार किया था। इसी के बाद से हर साल 15 जून को यहां पर एक विशाल मेले व भंडारे का आयोजन होता है।

अलौकिक शक्तियों के स्वामी थे बाबा नीब करौरी
इस पावन धाम की मान्यता है कि बाबा नीब करौरी को हनुमान जी की उपासना से अनेक चामत्कारिक सिद्धियां प्राप्त थीं। उसकी सबसे ख़ास बात तो यह थी कि एक आम आदमी की तरह जीवन जीने वाले बाबा अपना पैर किसी को नहीं छूने देते थे। यदि कोई छूने की कोशिश करता तो वह उसे श्री हनुमान जी के पैर छूने को कहते थे।

ये विदेशी भक्त भी हो चुके है नतमस्तक
इस चमत्कारी धाम पर पूरे साल श्रृद्धालुओं का तांता लगा रहता है साथ ही बता दे कि बाबा के भक्तों में एक आम आदमी से लेकर अरबपति-खरबपति तक शामिल हैं। यहां तक की भारतीय भक्तों के साथ-साथ विदेशी भी बन चुके है बाबा के भक्त और उसके सामने नतमस्तक हो चुके है।

बाबा के भक्त और जाने-माने लेखक रिच्रर्ड एलपर्ट ने मिरेकल आफ लव नाम से बाबा पर पुस्तक लिखी है। इस पुस्तक में बाबा नीब करौरी के चमत्कारों का विस्तार से वर्णन है। इनके अलावा हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया राबर्ट्स, एप्पल के फाउंडर स्टीव जाब्स और फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग जैसी बड़ी विदेशी हस्तियां बाबा के भक्त हैं।

चमत्कारिक है बाबा का धाम
इस चमत्कारिक पावन धाम के बारें में जनश्रुतियों के अनुसार कहा जाता है कि, एक बार यहां भंडारे के दौरान घी की कमी पड़ गई थी। बाबा जी के आदेश पर नीचे बहती नदी से कनस्तर में जल भरकर लाया गया। उसे प्रसाद बनाने हेतु जब उपयोग में लाया गया तो वह जल घी में बदल गया। ऐसे ही एक बार बाबा नीम करौली महाराज ने अपने भक्त को गर्मी की तपती धूप में बचाने के लिए उसे बादल की छतरी बनाकर, उसे उसकी मंजिल तक पहुचवाया। ऐसे कई और भी तरह के किस्से बाबा से जुड़े हुए है, जिसके बारें में जानते ही लोग यहां सुनते ही खींचे चले आते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here