अश्लीलता परोसने वाले ‘टिक टाॅक‘ एप को हटाने का आदेश | SC orders to remove ‘Tik Tok’ app for obscenity

0
67
tik tok

देश में सोशल मीडिया का उपयोग तेजी से बढ़ता जा रहा है, जो युवाओं को हिंसक बना रहा है, बल्कि अश्लीलता भी परोसी जा रही है। इसी पर मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै पीठ ने चिंता जताते हुए केंद्र सरकार को मोबाइल एप्लीकेशन ‘टिक-टाॅक‘ पर प्रतिबंध लगाने के आदेश दिए हैं। इसके बाद सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कथित तौर पर गूगल और एप्पल को अपने ऐप स्टोर्स से चीनी वीडियो शेयरिंग एप्लिकेशन टिक टॉक को हटाने को कहा।

इधर, टिक टाॅक संचालित करने वाली कंपनी ने इस आदेश को मनमाना करार दिया है। कंपनी ने कहा कि उसे ‘अश्लील और अनुचित सामग्री’ के लिए उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है और इस ऐप को करीब एक अरब लोगों ने डाउनलोड कर रखा है। इधर, चीनी वीडियो ऐप टिक टॉक ने आदेश के फैसले खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी, जिसे खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास उच्च न्यायालय का फैसला बरकरार रखा है। अब इस मामले में 22 अप्रैल को सुनवाई होगी।

Read More : अपने मोबाइल पर ऐसे सुने किसी के भी फोन ‘Call’ रिकॉर्ड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here