बीजेपी के दलित प्रेम की ‘नौटंकी’ पर RSS का संदेश, कहा- कभी उन्हें भी अपने घर बुलाओ

0
29

नई दिल्ली: बीजेपी के दलित प्रेम की ‘नौटंकी’  आरएसएस को रास नहीं आ रही है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नसीहत देते हुए कहा है कि सिर्फ दलितों के घर जाकर खाना खाने से कुछ नहीं होगा, उन्हें भी अपने घर बुलाए। भागवत ने सवाल किया कि अष्टमी पर हम दलित समाज की कन्याओं को घर पर बुलाकर पूजते हैं, लेकिन क्या अपने घर की कन्याओं को उनके घर भेजते हैं?Image result for मोहन भागवतबता दे कि बीजेपी का दलितों के घर जाकर खाना-खाने का सिलसिला जारी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी प्रतापगढ़ में दलित दयाराम सरोज के घर जाकर भोजन किया था इस दौरान स्वाति सिंह ने सीएम योगी के साथ भोजन किया था। इस मौके पर मुख्यमंत्री के साथ इलाके के सांसद और विधायक भी मौजूद रहे।
इस कड़ी योगी सरकार में मंत्री सुरेश राणा भी शामिल हो गए। मंगलवार को सुरेश राणा सूबे के अलीगढ़ में एक दलित के घर खाना खाने पहुंचे। लेकिन खाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया। दरअसल, दलित के घर खाना खाने पहुंचे सुरेश राणा ने होटल से मंगाया हुआ खाना खाया।Image result for सुरेश राणा सूबे के अलीगढ़ में एक दलित के घर खाना खानेउत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी गुरूवार रात घाटमपुर तहसील के पतारा ब्लॉक के छाजा गांव में पहुंचे और चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी। चौपाल ख़त्म होने के बाद उन्होंने उनके साथ मौजूद विधायको के साथ दलित महिला छुन्नी देवी के घर भोजन किया।महिला ने बताया कि दाल, चावल, खीर के साथ आलू की सब्जी, भरुआ करेला व कढ़ी बनाई है। उन्हें बहुत खुशी है कि उनके यहां इतने बड़े लोग आएं हैं। भोजन के बाद डिप्टी सीएम ने सरकारी स्कूल में रात्रि का विश्राम किया। बीजेपी के इस दलित प्रेम की कई नेताओ ने निंदा की है-

बीजेपी की इस दलित पॉलिटिक्स खिलाफ बहराइच से बीजेपी सांसद साध्वी सावित्री बाई फुले ने नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने इसे दलितों का अपमान बताया है।Image result for साध्वी सावित्री बाई फुलेउन्होंने कहा ‘लोग उनके घर में खाना खाने तो जाते हैं, लेकिन उनका बनाया हुआ खाना नहीं खाते। उनके लिए बाहर से बर्तन आते हैं, बाहर से खाना बनाने वाले आते हैं, वे ही परोसते भी हैं। दिखावे के लिये दलित के दरवाजे पर खाना खाकर फोटो खिंचवायी जा रही है और उन्हें सोशल मीडिया पर वायरल किये जाने के साथ-साथ टीवी चैनलों पर चलवाकर वाहवाही लूटी जा रही है। इससे पूरे देश के बहुजन समाज का अपमान हो रहा है।’’

दलितों के घर खाना खाने को लेकर योगी सरकार की मंत्री अनुपमा जायसवाल का विवादित बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि दलितों के घर मच्छर कांटते है फिर भी हम उनके घर रुके। Image result for अनुपमा जायसवाल का विवादित बयानइसी कड़ी में सांसद उदित राज ने कहा, ‘मैं दलितों की नब्ज को जानता हूं। अब लोग इसको बुरा मानने लगे हैं. राहुल गांधी ने भी इस तरह के कई प्रयोग किए थे, जो नाकाम रहा था।’ उन्होंने आगे कहा, ‘इस प्रकरण में जो दलित है उसने भी बयान दिया है कि मुझे पता ही नहीं चला कि मेरे घर में आए और खाना खाकर चले गए। इससे पार्टी का स्तर गिरा है और इस तरह का खाना खाना दलितों को नीचा दिखाने का प्रयास समझा जा सकता है। मैं उमा भारती का समर्थन करता हूं।’Image result for उदित राज

आपको बता दे कि दलितों के घर खाना-खाने को लेकर उमा भारती ने कहा था कि दलितों के घर जाकर भोजन करने की बजाय अपने घरों पर उन्हें आमंत्रित करे। दलितों के घर नेताओं के जाने की बजाय दलितों को उनके घर आना चाहिए।Related imageउन्होंने कहा कि ‘हम भगवान राम नहीं हैं कि दलितों के साथ भोजन करेंगे तो वे पवित्र हो जाएंगे। जब दलित हमारे घर आकर साथ बैठकर भोजन करेंगे तब हम पवित्र हो जाएंगे।दलित को जब मैं अपने घर में अपने हाथों से खाना परोसूंगी तब मेरा घर धन्य हो जाएगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here