नकदी 1.76 लाख करोड़, कर्ज चार लाख करोड़ | Rs 1.76 Lakh Crore Cash, Rs 4 Lakh Crore Loan

0
42
note

लोकसभा चुनाव(loksabha election) के दौर में करोड़ों रुपए की संपत्ति वाले कई उम्मीदवार सामने आ रहे हैं। मामला सौ-दो सौ करोड़ से लेकर हजार करोड़ तक पहुंच रहा है, लेकिन यदि किसी प्रत्याशी के पास नकदी(cash) ही पौने दो लाख करोड़ से ज्यादा हो और वह चार लाख करोड़ रुपए के कर्ज का हलफनामा पेश कर नामांकन दाखिल करे तो चौंकना स्वाभाविक है।

Read More : लोकसभा चुनाव : कई जगह बिगड़ी ईवीएम, लगी लंबी कतारें

वह भी विधानसभा उपचुनाव में। जी हां, दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु की पेरंबूर सीट से विधानसभा का उपचुनाव भी लोकसभा के साथ ही हो रहा है। इस सीट से स्वतंत्रता सेनानी जेबामनी के बेटे जे मोहनराज चुनाव लड़ रहे हैं। वे जेबामनी जनता पार्टी के उम्मीदवार हैं। दरअसल, उनके पास जो नकदी है या वे बता रहे हैं व टू-जी स्पेक्ट्रम घोटाले की अनुमानित आमदनी है और कर्ज तमिलनाडु सरकार द्वारा लिया गया है, जिसे वे अपने ऊपर बोझ मानते हैं। इन दोनों आंकड़ों को ही व्यंग्यात्मक ढंग से दर्शाने के लिए शपथ पत्र पेश किया है।

Read More : लोकसभा चुनाव : इन दिग्गजों की किस्मत EVM में होगी कैद

इतना ही नहीं चुनाव आयोग की छंटनी प्रक्रिया में भी सही पाया गया औऱ नामांकन पत्र वैध माना गया। अब तो उनके हलफनामे की प्रति चुनाव आयोग की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। इस बारे में मोहनराज कहते हैं आज तक 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले की जांच सही तरीके से नहीं हुई है। इसी पहलू की तरफ ध्यान दिलाने के लिए उन्होंने यह प्रयास किया था। इसके अलावा उनका मकसद चुनाव आयोग की छंटनी प्रक्रिया में खामी को उजागर करना भी है।

Read More : संघ प्रमुख मोहन भागवत ने डाला वोट, बोले-मतदान जरूर करें

चुनाव मैदान में मोहनराज की क्या गति होती है यह तो समय ही बताएगा, क्योंकि इस बार राज्य की राजनीति में डीएमके-कांग्ररेस और एआईएडीएमके-भाजपा जैसे दो बड़े राजनीतिक गठबंधन चुनाव लड़ रहे हैं। इन गठबंधनों के साथ अनेक स्थानीय राजनीतिक दल भी जुड़ गए हैं। ऐसे में मतों के विभाजन की संभावना काफी हद तक घट गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here