पूज्य शंकराचार्य जी महाराज की अध्यक्षता में ‘भारत साधु समाज की राष्ट्रीय कार्यकारिणी’ का पुनर्गठन

0
10
shankarachary

कनखल स्थित शंकराचार्य आश्रम के सभागार में पूज्य शंकराचार्य जी महाराज के पावन सान्निध्य और संरक्षकत्व में भारत साधु समाज की कार्यकारिणी में नवीन पुनर्गठन को लेकर समायोजित बैठक में निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किए गए।

  • आदि शंकराचार्य जी के उत्तराखण्ड में किये गए विशिष्ट अवदान को देखते हुए देहरादून के जौलीग्रांट हवाईअड्डे का नाम आदि शंकराचार्य के नाम पर रखा जाए।
  • सीमापार से आने वाले मादक द्रव्यों एवम शराब जैसे अपद्रव्यों से होने वाले अपराध जिनमें नाबालिगों से रेप जैसे भयंकर अपराध शामिल हैं , अतः इस पर सरकार का ध्यानाकर्षित कराने हेतु प्रस्ताव पारित किया गया।
  • खाद्य सामग्री में की जाने वाली मिलावट से तरह तरह के भयंकर रोग भारत मे पैर फैला रहे है इसपर उचित कार्यवाही अतिशीघ्र की जाए।

नोट , भारत साधु समाज की इस विशिष्ट बैठक के अवसर पर न्यास के उद्देश्यों पर चर्चा करते हुए एक्ट का हवाला देकर यह स्पष्ट किया गया कि भारत साधु समाज की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में किसी भी गृहस्थ का पदाधिकारी होना असंवैधानिक होगा ,किसी श्रेष्ठ गुरु से दीक्षित साधु ही केसंगठन में जुड़ने की योग्यता रख सकेगा। भारत साधु समाज स्त्रियों को साधु या साध्वी के रूप में स्वीकार नही करेगा।

इस अवसर पर पूज्यपाद शंकराचार्य जी ने यह स्पष्ट किया कि स्वामी हरिनारायणानंद जी के जीवित रहते महामंत्री कोई नही होगा। स्वामी हरिनारायणानंद जी के दीक्षित शिष्य स्वामी केशवानंद जी कार्यकारी महामंत्री होंगे , स्वामी मुक्तानन्द बापू कार्यकारी अध्यक्ष, संगठन मंत्री जयराम आश्रम के ब्रह्मचारी ब्रह्मस्वरुप जी एवं स्वामी विवेकानंद जी को प्रवक्ता नियुक्त किया गया।भारत साधु समाज के अखिल भारतीय स्वरूप के गठन के लिए 16 एवं 17 नवम्बर को अहमदाबाद गुजरात में एक महासम्मेलन की सहमति पूज्य शंकराचार्य जी ने प्रदान की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here