संसद में धार्मिक नारे लगाने की इजाजत नहीं : लोकसभा स्पीकर

0
44

नई दिल्ली। 17वीं लोकसभा के नए स्पीकर ओम बिड़ला ने कहा कि वह संसद के अंदर धार्मिक नारे लगाने की मंजूरी नहीं देंगे। मीडिया से चर्चा के दौरान बिड़ला ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि संसद नारे लगाने, प्लेकार्ड दिखाने या वेल में आने वाली जगह है। इसके लिए एक जगह है, जहां वह विरोध-प्रदर्शन कर सकते हैं। जिन सांसदों को आरोप लगाना है, सरकार को घेर सकते हैं, लेकिन उन्हें गैलरी में आकर यह सब नहीं करना चाहिए।

इस दौरान जब उनसे सवाल किया कि क्या आप आश्वासन दे सकते हैं कि सदन में इस तरह से नारे दोबारा नहीं लगेंगे, तो उन्होंने वादा करने से इनकार कर दिया। बिड़ला ने कहा कि मुझे नहीं पता कि ऐसा दोबारा होगा या नहीं, मगर में संविधान और सदन के नियमानुसार संसद को चलाने की पूरी कोशिश करूंगा। जय श्रीराम, जय भारत, वंदे मातरम् के नारे एक पुराने मुद्दे हैं।

इस दौरान जब उनसे पूछा गया कि संसद में अपने भाषण के दौरान उन्होंने वंदे मातरम् क्यों कहा तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि किसने कहा कि हम वंदे मातरम् और भारत माता की जय नहीं बोल सकते हैं। गौरतलब है कि लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने अपने स्वागत भाषण में नारेबाजी का जिक्र किया था। चौधरी ने कहा था कि मुझे नहीं लगता कि यह बहुदलीय लोकतंत्र की भावना का हिस्सा है। इस पर बिड़ला ने कहा कि मैं इसे लेकर स्पष्ट हूं। संसद लोकतंत्र का मंदिर है। इस मंदिर को संसद के नियमों के जरिए चलाया जाता है। मैंने सभी पक्षों से अनुरोध किया है कि हमें जितना हो सके इस स्थान की शोभा को बनाए रखना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here