रामनवमी : आज शुभ संयोग में ऐसे करें पूजा, रामलला देंगे वरदान | Ram Navami: Today Auspicious Time, Worship will give Blessings

0
100
ramnavmi

चैत्र नवरात्रि इन दिनों आठ दिनों की है। ऐसे में अष्टमी और नवमी के हवन और कन्यापूजन की तिथि को लेकर लोगों में काफी कन्फ्यूजन बना हुआ है। लोग असमंजस में है कि कन्यापूजन किस दिन करे। इतना ही नहीं रामनवमी को लेकर भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। गौरतलब है कि चैत्र माह की शुक्‍ल पक्ष की नवमी के दिन पुनर्वसु नक्षत्र और कर्क लग्‍न में भगवान राम का जन्‍म हुआ था। आपके इस असमंजस को दूर करने के लिए हम आपके लिए पूरी जानकारी लेकर आए है।

राम नवमी कब है?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार चैत्र माह की शुक्‍ल पक्ष की नवमी को रामनवमी मनाई जाती है.। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह पर्व हर साल मार्च या अप्रैल महीने में आता है। इस बार राम नवमी दो दिन मनाई जाएगी। हिन्‍दू कैलेंडर के मुताबिक 13 अप्रैल को सूर्योदय से लेकर सुबह 08 बजकर 15 मिनट तक अष्‍टमी है. इसके बाद नवमी लग जाएगी। वही पंडितों के अनुसार इस बार राम नवमी दो दिन यानी कि 13 अप्रैल और 14 अप्रैल को मनाई जाएगी।

राम नवमी की तिथि

नवमी तिथि 13 अप्रैल 2019 को सुबह 08 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर 14 अप्रैल 2019 को सुबह 06 बजकर 04 मिनट तक रहेगी।

पूजा का मुहूर्त

नवमी पूजन का शुभ मुहूर्त: 13 अप्रैल 2019 को सुबह 11 बजकर 56 मिनट से दोपहर 12 बजकर 47 मिनट तक चलेगा।

ऐसे करें पूजा

रामनवमी के दिन ब्रह्म मुहूर्त में स्‍नान कर स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करें. अब भगवान् राम का नाम लेकर व्रत का संकल्‍प लें। अब घर के मंदिर में रामलला की मूर्ति या राम दरबार की तस्वीर स्थापित कर उसपर गंगाजल छिडके. दीपक जलाकर रामलला को पालने में बैठाएं और उन्हें मौसमी फल, मेवे और मिठाई का भोग लगाए। अब उनकी आरती कर रामायण और राम रक्षास्‍त्रोत का पाठ करें। पूजा के बाद नौं कन्याओं को भोजन कराएं और उन्हें उपहार या दक्षिणा देकर विदा करें। इसके बाद घर के सभी सदस्‍यों में प्रसाद बांटकर व्रत का पारण करें।

Read More : दुनिया के ताकतवर नेताओं को पीछे छोड़ No-1 बने PM मोदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here