Breaking News

श्रीराम ने भगवान शिव का जो धनुष तोड़ा था, उसे 5 हजार लोग खींचकर लाए थे

Posted on: 06 Nov 2018 20:24 by Ravi Alawa
श्रीराम ने भगवान शिव का जो धनुष तोड़ा था, उसे 5 हजार लोग खींचकर लाए थे

वैसे तो आप राम भगवान के बारें में बहुत कुछ जानते होंगे. लेकिन क्या आप जानते है कि, भगवान राम ने जो धनुष तोड़ा था. उसे कितने लोग खींचकर लाए थे. सीता का विवाह स्वयंवर पद्धति से नहीं हुआ था. महर्षि वाल्मीकि की रामायण में सिर्फ इस बात का उल्लेख है कि सीता के पिता जनक ने यह घोषणा की थी कि जो कोई शिव धनुष पर बाण का संधान कर लेगा, उसके साथ सीता का विवाह कर दिया जाएगा.

Via

बाण का संधान करने के लिए कई राजा आए, लेकिन धनुष को कोई हिला भी नहीं सका. मुनि विश्वामित्र भी राम-लक्ष्मण को लेकर जनकपुर गए और जनक से राम को धनुष दिखाने को कहा. धनुष के आकार को देखकर ही इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोई भी राजा धनुष को हिला भी क्यों नहीं पाया था?

Via

रामायण के मुताबिक, यह धनुष एक विशालकाय लोहे के संदूक में रखा हुआ था. इस संदूक में आठ बड़े-बड़े पहिये लगे हुए थे. उसे पांच हजार मनुष्य किसी तरह ठेलकर लाए थे. इस धनुष का नाम पिनाक था. श्रीराम ने संदूक खोलकर धनुष को देखा और जैसे ही धनुष को कान तक खींचा, वैसे ही वह बीच में से टूट गया.

Read more-

जानिए दिवाली के शुभ मुहुर्त और पूजा विधि

इस तरह मनाएं हैप्पी और सेफ दिवाली

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com