राहुल गांधी का दर्द, मेरे इस्तीफा देने के बाद भी किसी ने नहीं ली हार की जिम्मेदारी

0
24
rahul gandhi

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी। हालांकि पार्टी आलाकमान के इस्तीफा नामंजूर कर देने के बाद राहुल गांधी कुछ समय तक अध्यक्ष पद पर बने रहने के लिए राजी हुए थे लेकिन उनके पद छोड़ने की खबर आती रही है। हाल ही में राहुल गांधी ने अपना दर्द बया किया है।

बुधवार को यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं से बात करते हुए राहुल गांधी ने साफ कर दिया कि वह आज नहीं तो कल अध्यक्ष पद छोड़ेंगे। इस दौरान जब उनसे पूछा गया कि सर,सामूहिक हार है सबकी जिम्मेदारी बनती है तो सिर्फ इस्तीफा आपका ही क्यों? इसपर राहुल गांधी ने कहा कि मुझे इसी बात का दुख है कि मेरे इस्तीफा देने के बाद भी किसी मुख्यमंत्री, महासचिव या प्रदेश अध्यक्षों ने हार की जिम्मेदारी लेकर इस्तीफा नहीं दिया।

दरअसल, यूथ कांग्रेस के लोग राहुल गांधी के घर के बाहर एकत्रित हुए थे. मकसद था राहुल गांधी इस्तीफा न दें और कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहें। राहुल गांधी के समर्थन में उनके घर के बाहर जब राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य बैठे तो राहुल ने सभी को अपने घर पर आमंत्रित किया और उनसे अपने मन की बात की।

राहुल गाँधी ने कहा कि एक बात बिलकुल साफ है कि अब मैं पार्टी का अध्यक्ष नहीं रहूंगा और हां आप लोग बिल्कुल भी चिंता मत करिए। उन्होंने आगे कहा कि मैं कही जाने वाला नहीं हूं यहीं रहूंगा और मजबूती से आप सब की लड़ाई लड़ूंगा। राहुल ने यह भी कहा कि आज मैं चुनाव हारा हूं अगर एक अंगुली मैं किसी पर उठाता हूं तो तीन अंगुलियां मेरी तरफ उठेंगी। लंबा संघर्ष है जिसको तुरंत सत्ता चाहिए वो बीजेपी में जाए, लेकिन जो संघर्ष में मेरे और पार्टी के साथ रहेगा वही पार्टी का सच्चा सिपाही है।

लंबे समय से कर रहे है इसितिफे की पेशकश

गौरतलब है कि राहुल गांधी पिछले लंबे समय से अपने इस्तीफे की पेशकश कर रहे है। इस दौरान अध्यक्ष पद के लिए जब प्रियंका गांधी का नाम सामने आया तो उन्होंने साफ़ कह दिया कि गांधी परिवार से अध्यक्ष के बारे में मत सोचिए। कांग्रेस पार्टी का अगला अध्यक्ष कोई गैर कांग्रेसी ही होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here