खाद्य तथा औषधि विभाग के भ्रष्ट अधिकारियों की संपत्ति की जांच होनी चाहिए

प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा दिए गए निर्देश तथा स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के आदेश के बाद खाद्य तथा औषधि विभाग के अधिकारी और निरीक्षक बड़े पैमाने पर पूरे शहर में छापे मारकर खराब मावा और मिलावटी दूध पनीर पकड़ने का दावा कर रहे हैं और इसकी वाहवाही लूट रहे हैं।

0
23

प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा दिए गए निर्देश तथा स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के आदेश के बाद खाद्य तथा औषधि विभाग के अधिकारी और निरीक्षक बड़े पैमाने पर पूरे शहर में छापे मारकर खराब मावा और मिलावटी दूध पनीर पकड़ने का दावा कर रहे हैं और इसकी वाहवाही लूट रहे हैं।

लेकिन इस पूरे मामले की पोल तब खुली जब स्वास्थ्य मंत्री के पास कांग्रेस के कुछ नेताओं ने इस बात की शिकायत की कि यहां के भ्रष्ट अधिकारियों ने दुकानदारों से सेटिंग करके करोड़ों रुपए रिश्वत के रूप में कमा लिए हैं और ये सालों से यहां पर जमे हुए हैं मनीष स्वामी जो कि यहां के मुख्य अधिकारी हैं उनके खिलाफ भी शिकायतें की गई ।

और कहा गया कि मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद तथा स्वास्थ्य मंत्री के आदेश के बाद ही इतने बड़े पैमाने पर मिलावट क्यों सामने आ रही है। इसके पहले यह विभाग क्या करता रहा जाहिर है कि इस विभाग के अधिकारियों ने इंदौर को अपनी लूट का केंद्र बना रखा था और बड़े पैमाने पर वसूली करते थे। इस बात की पुष्टि कई दुकानदारों द्वारा कांग्रेस के नेताओं के सामने भी की गई की गई कि प्रतिमाह उनसे किस तरह से वसूली की जाती थी और वसूली नहीं देने वाले दुकानदारों के प्रकरण बनने की धमकियां दी जाती थी।

कुल मिलाकर इस विभाग का पूरी तरह से आमूलचूल परिवर्तन जरूरी है। ऐसा कांग्रेस नेताओं ने स्वास्थ्य मंत्री से कहा और उनसे यह भी कहा कि यहां सालों से जमे अधिकारियों के तबादले भी किए जाने चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here