ब्रह्मोस से लैस होंगे सुखोई, दुश्मन को ऐसे करेंगे ढेर | Process of Equipping Sukhoi Aircraft with Brahmos Missile will be faster to heap Enemy…

0
10

पड़ोसी देशों से चल रही खींचतान के बीच भारत अपनी सैन्य ताकत को मजबूत करने में लगा है। पीओके के बालाकोट में एयर स्ट्राइक के बाद केंद्र सरकार ने 40 से ज्यादा सुखोई लड़ाकू विमानों को ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल से लैस करने का फैसला किया है, ताकि भारतीय वायुसेना की युद्धक क्षमताओं को मजबूत किया जा सके।

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) और ब्रह्मोस एयरोस्पेस लिमिटेड को इस परियोजना को जल्द पूरा करने के लिए कहा गया है। बताया जा रहा है कि दिसंबर 2020 तक सुखोई ब्रह्मोस से लैस हो जाएगा। हालांकि सरकार ने 2016 में विश्व की सबसे तेज सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस को 40 से ज्यादा सुखोई विमानों में तैनात करने का निर्णय लिया था।

अधिकारी के मुताबिक, बालाकोट एयर स्ट्राइक और पाकिस्तान की जवाबी कार्रवाई के बाद वायुसेना को मजबूत करने की समीक्षा की गई। सुखोई के ब्रह्मोस से लैस होने के बाद वायुसेना की समुद्र और जमीन पर बड़ी रेंज से लक्ष्यों को भेदने की क्षमता बढ़ जाएगी।

इससे पहले अमेरिका ने भारत को 24 बहुउपयोगी एमएच-60 ‘रोमियो‘ सी हॉक हेलीकॉप्टर की बिक्री को मंजूरी दे दी है। इस हेलीकॉप्टर की कीमत करीब 2.4 अरब डॉलर है। भारत को पिछले काफी समय से इस हेलीकॉप्टर की जरूरत थी। खबरों के मुताबिक, भारतीय नौसेना के लिए 24 हेलिकॉप्टर की तुरंत आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए भारत ने अमेरिका को खत भी लिखा था। रक्षा अधिग्रहण परिषद ने अगस्त महीने में ही इन हेलीकॉप्टर को खरीदने की अनुमति दे दी थी। इसके साथ ही 111 अन्य हेलिकॉप्टर की खरीद को भी मंजूरी दी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here