प्रियंका गांधी की सीएम योगी को चिट्ठी, कहा- यूपी में कम रखें मेरी सुरक्षा

0
54

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने उनके राज्य के दौरों के दौरान सुरक्षा इंतजाम कम करने का अनुरोध किया है। उन्होंने सुरक्षा इंतजामों से जनता को होने वाले दिक्कत का हवाले देते हुए कहा कि जब वह सोनिया गांधी के साथ रायबरेली दौरे पर आई थी तब उनके साथ 22 गाड़ियों का काफिला साथ था। जिस वजह से जनता को परेशानी का सामना करना पड़ा था।

कांग्रेस महासचिव ने आगे कहा कि दूसरे राज्यों में मेरे दौरे के दौरान सिर्फ एक गाड़ी साथ ही चलती है जिससे जनता को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। उन्होंने सीएम योगी से निवेदन किया है कि यूपी में उनके दौरे में सुरक्षा जितनी संभव हो कम से कम रखी जाए ताकि आम जनता को कोई परेशानी नहीं हो।

प्रियंका ने पत्र में कहा कि यात्रा के दौरान मेरे लिए प्रशासन और पुलिस विभाग द्वारा जो सुरक्षा के इंतजाम किए जाते हैं। उसकी मैं सराहना करती हूं लेकिन सुरक्षा व्यवस्था के चलते जनता को होने वाली परेशानी से मैं बहुत दुखी हूं जनता की एक सेवक होने के नाते मुझसे जनता को कोई परेशानी नहीं होना चाहिए।

प्रियंका गांधी ने अपने पत्र में लिखा कि ‘पिछले दिनों मेरी और कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी की रायबरेली यात्रा के दौरान स्थानीय प्रशासन और पुलिस के 22 वाहन काफिले में शामिल रहे। इस वजह से जनता और कार्यकर्ताओं को काफी परेशानी हुई। दिल्ली में और अन्य राज्यों में भी मेरी सुरक्षा का इंतजाम है, जिसमें मात्र एक सुरक्षा वाहन मेरे साथ चलता है। इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं होती है। इस तरह से जनता को कोई परेशानी नहीं होती है।

प्रियंका गांधी ने लिखा, ‘उत्तर प्रदेश में मेरे दौरे के दौरान हमेशा ट्रैफिक को रोका जाता है, जिससे जनता को बहुत दिक्कत होती है। मेरी समझ में इसकी कोई जरूरत नहीं है। इसमें जनता को बाधित करने के अलावा सरकार के संसाधनों का भी दुरुपयोग होता है।’

उन्होंने आगे कहा, प्रियंका गांधी ने लिखा, ‘उत्तर प्रदेश में मेरे दौरे के दौरान हमेशा ट्रैफिक को रोका जाता है, जिससे जनता को बहुत दिक्कत होती है। मेरी समझ में इसकी कोई जरूरत नहीं है। इसमें जनता को बाधित करने के अलावा सरकार के संसाधनों का भी दुरुपयोग होता है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here