Breaking News

प्रियंका गांधी कार्यकर्ताओं से बोलीं- एग्जिट पोल पर न दें ध्यान | Lok Sabha Election 2019 Priyanka Gandhi Message to Activists not to afraid of Exit Polls Rumors

Posted on: 21 May 2019 06:50 by Pawan Yadav
प्रियंका गांधी कार्यकर्ताओं से बोलीं- एग्जिट पोल पर न दें ध्यान | Lok Sabha Election 2019 Priyanka Gandhi Message to Activists not to afraid of Exit Polls Rumors

लोकसभा चुनाव की वोटिंग होने के बाद आए एग्जिट पोल में भाजपा नीत एनडीए को पूर्ण बहुमत मिल रहा है। इसके बाद विपक्ष के नेताओं में हड़कंप मच गया हैं। इसी बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सभी न्यूज चैनलों द्वारा प्रसारित किए गए एग्जिट पोल को सिर्फ मनोरंजन का तरीका बताया है। उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील की है कि वे अफवाहों और एग्जिट पोल पर ध्यान न दें और स्ट्रांग रूम तथा मतगणना केंद्रों पर डटे रहें।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कार्यकर्ताओं को एक आॅडियो जारी कर संदेश दिया है कि ‘ आपलोग, अफवाहों और एग्जिट पोल से हिम्मत मत हारिये। यह अफवाहें आपका हौसला तोड़ने के लिए फैलाई जा रही है। इस बीच आपकी सावधानी और भी महत्वपूर्ण बन जाती है। स्ट्रांग रूम और मतगणना केंद्रों पर डटे रहिए और चैकन्ने रहिए। उन्होंने कहा कि हमें पूरी उम्मीद है कि हमारी और आपकी मेहनत का फल मिलेगा। गौरतलब है कि 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आएंगे।

फिर उठा ईवीएम-वीवीपैट का मुद्दा, जाएंगे चुनाव आयोग

इधर, एग्जिट पोल के सर्वे में भाजपा को मिल रहे बहुमत के बाद कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल ईवीएम की गणना और वीवीपैट की पर्चियों के मिलान की मांग को लेकर एक बार फिर चुनाव आयोग से मुलाकात करनेे की तैयारी कर रहा है। बताया जा रहा है कि विपक्षी दल मंगलवार को चुनाव आयोग से मुलाकात कर सकते हैं। इससे पहले तेलुगू देशम पार्टी प्रमुख और आंध्रप्रदेश मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने बताया कि कम से कम 50 फिसदी ईवीएम की गणना और वीवीपैट पर्चियों का मिलान करना चाहिए। इस दौरान उन्होंने चुनाव आयोग की भी आलोचना की और कहा कि आयोग अपनी विश्वसनीयता खो चुका है। गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में कम से कम पांच वीवीपैट पर्चियों का मिलान ईवीएम से करने का आदेश दिया है।

विपक्षी दलों के नेताओं का कहना है कि इस संबंध में न्यायालय द्वारा अधिकतम सीमा तय नहीं की गई है। नायडू ने कहा कि ‘अगर वीवीपैट पर्चियों की गणना नहीं हो सकती तो चुनाव आयोग को 9000 करोड़ रुपए खर्च करने की क्या जरूरत थी? मतगणना में तेजी की बजाय विश्वसनीयता ज्यादा महत्वपूर्ण है। वहीं इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी एग्जिट पोल की विश्वसनीयता पर संदेह जताया था और इसे ईवीएम के साथ छेड़छाड़ करने का प्रयास बताया था।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com