Breaking News

लग्जरी वस्तुओं पर दो फीसदी सेस लगाने की तैयारी

Posted on: 20 Jun 2018 12:56 by Praveen Rathore
लग्जरी वस्तुओं पर दो फीसदी सेस लगाने की तैयारी

नई दिल्ली। 28 प्रतिशत जीएसटी वाली वस्तुओं पर किसान सेस लगाने की तैयारी की जा रही है। गौरतलब है कि सरकार ने किसानों की आय दोगुना करने और महाराष्ट्र के गन्ना किसानों का बकाया पैसा लौटाने को चीनी मिलों पर दबाव बनाया है, इस पर चीनी मिलों ने असमर्थता जाहिर कर दी है कि उत्पादन ज्यादा होने की वजह से चीनी के दाम कम मिल रहे हैं और मुनाफा भी कम हो रहा है, ऐसे में किसानों का बकाया देने की स्थिति में नहीं है।

सरकार के पास अब दो ही रास्ते हैं कि चीनी मिलों को आर्थिक मदद करे या चीनी पर दो से ढाई प्रतिशत किसान सेस लगाकर इससे जुटाई राशि से किसानों को भुगतन करवाए या किसानों को कोई आर्थिक सहायता पहुंचाए। हालांकि चीनी पर किसान सेस लगाने के मामले में केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों में एक राय नहीं है। इनका कहना है कि यदि ऐसा हुआ तो अन्य राज्यों से भी विभिन्न वस्तुओं पर सेस लगाने की मांग उठने लगेगी और राज्य इसके लिए सहमत नहीं होंगे। बता दें कि इससे पहले पश्चिम बंगाल सरकार जूट पर सेस लगाने की मांग उठा चुकी है।

इधर जानकारों का कहना है कि जीएसटी लागू होने के बाद किसी भी वस्तु पर सेस (अतिरिक्त टैक्स) लगाना जीएसटी की भावनाओं के अनुरूप नहीं है और राज्यों का विरोध का सामना भी करना पड़ेगा। ऐसी स्थिति में फिलहाल चीनी पर तो सेस लगाने का प्रस्ताव सैकंडरी है।

लग्जरी वस्तुओं पर लग सकता है सेस
इधर वित्त मंत्रालय चाहता है कि जिन लग्जरी वस्तुओं पर जीएसटी की दर 28 प्रतिशत लागू है, उन पर दो से ढाई या इससे ज्यादा सेस लगाया जा सकता है। इसके लिए मंत्रालय ने प्रस्ताव बनाया है, इस प्रस्ताव को जीएसटी काउंसिल की बैठक में अनुमोदन के लिए भेजा जाएगा, इसके बाद ही अंतिम निर्णय होगा। दूसरा प्रस्ताव विकल्प के रूप में चीनी पर सेस लगाने का है। यदि पहला प्रस्ताव लग्जरी वस्तुओं पर सेस लगाने का मंजूर हो जाता है, तो चीनी वाला प्रस्ताव ठंडे बस्ते में चला जाएगा।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com