इंदौर। इंदौर में तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय सम्मेलन चल रहा है। सोमवार को इस सम्मेलन में भाग लेने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंदौर पहुंचे। तीन दिवसीय सम्मेलन में 70 देशों से 3500 से अधिक प्रवासी भारतीय हिस्सा ले रहे हैं।

इंदौर हवाईअड्डे पर राज्यपाल मंगुभाई पटेल, सीएम शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा और मंत्री उषा ठाकुर ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया। कार्यक्रम स्थल ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर पहुंचने के बाद वे सूरीनाम और गुयाना के राष्ट्रपति की अगवानी की।

Also Read – प्रवासी भारतीय सम्मेलन: गुयाना के राष्ट्रपति ने मध्यप्रदेश और इंदौर का आभार जताया, कही ये दिल छू लेने वाली बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा –  56 दुकान सराफा भी प्रसिद्ध है इसलिए इसे औद्योगिक के साथ साथ स्वाद की राजधानी भी कहते है। PM मोदी ने कहा, भारत एक साथ 100 सेटेलाईट बना रहा है

भारतीय प्रवासियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा – दुनियां के देशों में अपने भारतीय दिखाई देते है गौरव कई गुना बढ़ जाता है, हमारे प्रवासियों को ग्लोबल लेबल पर देखते है तो भारत के लोग कॉमन फेक्टर पर दिखाई देते है। हमने समृद्धि के रास्ते अलग अलग देशों में खोले है।

PM मोदी ने अपने संबोधन में इंदौर के जायको का विशेष रूप से उल्लेख किया और प्रवासियों से कहा कि वे अवश्य उनका स्वाद भी ले. पोहे, साबूदाने की खिचड़ी के साथ शिकंजी और 56 दूकान, सराफा का जिक्र किया।

मोदी ने कहा – 4 साल बाद प्रवासी भारतीय दिवस मूल भव्य स्वरूप में हो रहा है। यह उपस्थित प्रत्येक प्रवासी भारतीय अपने देश को नमन करने का आयन है। 56 दुकान सराफा भी प्रसिद्ध है इसलिए इसे औद्योगिक के साथ साथ स्वाद की राजधानी भी कहते है। खाने पीने के लिए आपका इंदौर देश ही नही दुनिया मे ला जवाब है।

हमे की भी विदेश में भारतीय मूल का व्यक्ति मिलता है तो लगता है कि भारत हमे मिल गया है।

भारत आपके हितों के लिए हमेशा आपके साथ रहेगा।

मेरा एक और सुझाव है कई प्रवासी सालों से बेस है जो वहां योगदान दे रहे है उनके डोकुमेंट तैयार किये जाने चाइये।

इंदौर स्वच्छता के साथ स्वाद की राजधानी भी है।

मेरा एक और सुझाव है कई प्रवासी सालों से बेस है जो वहां योगदान दे रहे है उनके डोकुमेंट तैयार किये जाने चाइये।

ये युवा फ्यूचर वर्ल्ड को भारत के बारे में बताएंगे।

इंदौर शहर नहीं, दौर है; यहां का खानपान दुनियाभर में लोकप्रिय।

Also Read – प्रवासी भारतीय सम्मेलन: सूरीनाम के राष्ट्रपति ने अपनी मातृभूमि को लेकर कही ये बड़ी बात