Breaking News

रेणुका चौधरी की हंसी से नरेन्द्र मोदी क्यों बौखला गए थे ? | PM Modi’s sarcastic reply on Renuka Chowdhury laughs

Posted on: 01 May 2019 17:27 by rubi panchal
रेणुका चौधरी की हंसी से नरेन्द्र मोदी क्यों  बौखला गए थे ? | PM Modi’s sarcastic reply on Renuka Chowdhury laughs

लोकसभा चुनाव की आधी जंग लगभग समाप्त हो गई है देश में अब तक 4 चरणों में चुनाव हो चुके है। तेलंगाना के खमखम से कांगे्रस ने पूर्व केंद्रीय मंत्री रेणुका चैधरी को चुनावी मैदान में उतारा है वहीं रेणुका को टक्कर देने को भाजपा की ओर से वासुदेव राव मैदान में उतरे है।

रेणुका ने राजनीतिक जीवन की शुरूआत 1984 में तेलगु देशम पार्टी टीडीपी से की थी। 1998 तक वे तेलगु देशम पार्टी से जुडी रही। जिसके बाद साल 1998 में इन्होने कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ली । कांग्रेस में आने के बाद रेणुका चौधरी लगातार दो बार राज्यसभा की सदस्य रही। जिसके बाद उन्होने लगातार दो बार 13वें और 14 वें लोकसभा चुनाव में खमखम संसदीय सीट का प्रतिनिधित्व किया और अब वे फिर इसी सीट से चुनाव लड़ रही है।

रेणुका अपने उटपटांग बयानों के चलते आए दिन विवादों में रहती है या ये कहें की वे विवादों में रहने के लिए ही ऐसे बयान देती है। वैसे तो इनके सभी बयान काफी चर्चित रहे है, लेकिन जो सबसे ज्यादा चर्चित है वह यह की वे प्रधानमंत्री मोदी के भाषण के दौरान जोर-जोर से हंसने लगी थी, जिस पर मोदी ने उनकी चुटकी लेते हुए कहा था कि रामायण के बाद ऐसी हंसी आज सुनने को मिली है।

दरअसल, राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के दौरान कांग्रेस सांसद रेणुका चैधरी की हंसी के कारण विवाद हो गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में अपने भाषण के दौरान आधार पर बयान दे रहे थे। इसी दौरान कांग्रेस सांसद रेणुका चैधरी जोर-जोर से हंसने लगी। इस पर राज्यसभा अध्यक्ष वेंकैया नायडु ने उन्हें मना करते हुए कहा कि आपको क्या हो गया है, अगर आपको समस्या है तो आप डॉक्टर के पास जाइए। इतने में मुस्कुराते हुए पीएम मोदी बोले, सभापति रेणुका जी को आप कुछ मत कहिए रामायण सीरियल के बाद ऐसी हंसी सुनने का आज सौभाग्य मिला है। जिस पर कांग्रेस ने पीएम मोदी पर कई आरोप लगाए।

इसके अलावा रेणुका की कांगे्रस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी से नजदीकी भी काफी चर्चित रही है, कहा जाता है कि रेणुका सोनिया के सबसे करीबी नेताओं में से एक है। 2004 में जब सबकी निगाहें इस तरफ थी कि सोनिया गांधी भारत की प्रधानमंत्री बनेंगी या नहीं। जिस पर सोनिया ने खुद कहा था कि उनका लक्ष्य प्रधानमंत्री बनना नहीं है। जिस पर कांग्रेस के कई नेता मायुस थे, जिन में से एक रेणुका थी वो सिर्फ उदास नहीं बल्कि मीडिया के सामने ही खुब रोई भी थी, और उन्होंने सोनिया गांधी से पार्टी का नेतृत्व जारी रखने की विनती भी की थी।

Read more : सीएम कमलनाथ के इस पत्र पर मचा बवाल, बीजेपी ने किया पलटवार

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com