Breaking News

मगहर में बोले मोदी, संत कबीर धूल से उठे और माथे का चन्दन बन गए

Posted on: 28 Jun 2018 03:35 by Ravindra Singh Rana
मगहर में बोले मोदी, संत कबीर धूल से उठे और माथे का चन्दन बन गए

नई दिल्ली: पीएम मोदी मगहर में सभा को सम्बोधित करते हुए बोले

Live Update

कबीर की साधना ‘मानने’ से नहीं, ‘जानने’ से आरम्भ होती है.. वो सिर से पैर तक मस्तमौला स्वभाव के फक्कड़ आदत में अक्खड़ भक्त के सामने सेवक बादशाह के सामने प्रचंड दिलेर दिल के साफदिमाग के दुरुस्त भीतर से कोमलबाहर से कठोर थे। वो जन्म के धन्य से नहीं, कर्म से वंदनीय हो गए।

वो धूल से उठे थे लेकिन माथे का चन्दन बन गए। वो व्यक्ति से अभिव्यक्ति और इससे आगे बढ़कर शब्द से शब्दब्रह्म हो गए। वो विचार बनकर आए और व्यवहार बनकर अमर हुए। संत कबीर दास जी ने समाज को सिर्फ दृष्टि देने का काम ही नहीं किया बल्कि समाज को जागृत किया।

कबीर ने जाति-पाति के भेद तोड़े, “सब मानुस की एक जाति” घोषित किया, और अपने भीतर के अहंकार को ख़त्म कर उसमें विराजे ईश्वर का दर्शन करने का रास्ता दिखाया। वे सबके थे, इसीलिए सब उनके हो गए।

ये हमारे देश की महान धरती का तप है, उसकी पुण्यता है कि समय के साथ, समाज में आने वाली आंतरिक बुराइयों को समाप्त करने के लिए समय-समय पर ऋषियों, मुनियों, संतों का मार्गदर्शन मिला। सैकड़ों वर्षों की गुलामी के कालखंड में अगर देश की आत्मा बची रही, तो वो ऐसे संतों की वजह से ही हुआ।

कुछ दलों को शांति और विकास नहीं, कलह और अशांति चाहिए, उनको लगता है जितना असंतोष और अशांति का वातावरण बनाएंगे उतना राजनीतिक लाभ होगा।सच्चाई ये है ऐसे लोग जमीन से कट चुके हैं, इन्हें अंदाजा नहीं कि संत कबीर, महात्मा गांधी, बाबा साहेब को मानने वाले हमारे देश का स्वभाव क्या है।

समाजवाद और बहुजन की बात करने वालों का सत्ता के प्रति लालच आप देख रहे हैं, 2 दिन पहले देश में आपातकाल को 43 साल हुए हैं। सत्ता का लालच ऐसा है कि आपातकाल लगाने वाले और उस समय आपातकाल का विरोध करने वाले एक साथ आ गए हैं। ये समाज नहीं, सिर्फ अपने और अपने परिवार का हित देखते हैं।

जनधन योजना के तहत उत्तर प्रदेश में लगभग 5 करोड़ गरीबों के बैंक खाते खोलकर, 80 लाख से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन देकर, करीब 1.7 करोड़ गरीबों को बीमा कवच देकर, 1.25 करोड़ शौचालय बनाकर,गरीबों को सशक्त करने का काम किया है।

14-15 वर्ष पहले जब पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम जी यहां आए थे, तब उन्होंने इस जगह के लिए एक सपना देखा था। उनके सपने को साकार करने के लिए, मगहर को अंतरराष्ट्रीय मानचित्र में सद्भाव-समरसता के मुख्य केंद्र के तौर पर विकसित करने का काम अब किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उत्तरप्रदेश पहुंचे, मुख्यमंत्री योगी ने पीएम मोदी का स्वागत किया। इसके बाद मगहर के लिए रवाना हुए। मगहर पहुंचकर संत कबीर को उनकी परिनिर्वाण स्थली पर जाकर उनकी मजार पर चादर भेट की।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज उत्तरप्रदेश की मगहर से 2019 के चुनाव का आगाज करेंगे। आज संत कबीर की 500 वीं पुण्यतिथि है, मगहर को नरक को नरक का द्वारा भी कहा जाता है।

थोड़ी देर पहले यहां संत कबीर अकादमी का शिलान्यास किया गया है। यहां महात्मा कबीर से जुड़ी स्मृतियों को संजोने वाली संस्थाओं का निर्माण किया जाएगा। कबीर गायन प्रशिक्षण भवन, कबीर नृत्य प्रशिक्षण भवन, रीसर्च सेंटर, लाइब्रेरी, ऑडिटोरियम, हॉस्टल, आर्ट गैलरी विकसित किया गया। मोदी एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे, जिसे बीजेपी 2019 के लोकसभा चुनावों के मद्देनजर प्रचार की शुरूआत के रूप में देख रही है।

पीएम के मगहर दौरे पर कई लोगों ने सवाल उठाया की कबीर के लिए पीएम के ‘अचानक उठे प्यार’ जिसका जवाब इस गुरुवार को होने वाले पीएम मोदी के मगहर दौरे में निहित है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का मगहर में संत कबीर को फुल और चादर चदते हुए विडियो देखे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com