Breaking News

रोहिणी काल में कौन से ग्रह बदलेंगे और क्या होगा असर | Planets will change in Rohini Period

Posted on: 10 May 2019 18:28 by rubi panchal
रोहिणी काल में कौन से ग्रह बदलेंगे और क्या होगा असर | Planets will change in Rohini Period

पंचांग के मुताबिक रोहिणी नक्षत्र 25 मई को शुरू होगा और इस बार 8 जून तक रहेगा। 25 मई को रात 8ः23 पर सूर्य रोहिणी नक्षत्र में कदम रखेगा। 15 दिवसीय रोहिणी काल के दौरान चार ग्रहों का नक्षत्र परिवर्तन भी होगा। इससे नवतपे में तेज गर्मी व उमस के साथ वर्षा के योग बनेंगे। बारिश की बूंदो से गर्मी भरे दिनों में लोगों को राहत मिलेगी।

ज्योतिषियों की माने तो रोहिणी का असर वर्षा ऋतु में सामान्य रूप में नजर आएगा। जिससे धान्य व फलों का उत्पादन श्रेष्ठ रहेगा। नक्षत्र मेखला के अनुसार नवतपा में 27 मई से चार ग्रह नक्षत्र परिवर्तन कर रहे हैं। इनका प्रभाव रोहिणी में मौसम परिवर्तन तथा वर्षा ऋतु में वृष्टि चक्र में अलग-अलग नजर आएगा।

ये ग्रह करेंगे नक्षत्र परिवर्तन

सबसे पहले कृतिका नक्षत्र में 27 मई को संध्या समय 6 बजे शुक्र ग्रह प्रवेश करेगा। कृतिका नक्षत्र के स्वामी अग्निदेव है जिससे शुक्र के प्रवेश से सूर्य से तपिश के योग बनते हैं तो वर्षा ऋतु में बाढ़ की स्थिति निर्मित होती है।

बुध ग्रह दो दिन बाद 29 मई को शाम 5.58 बजे मृगशिरा नक्षत्र में प्रवेश करेगा। कृतिका बुध का नक्षत्र होने और चंद्रमा का पुत्र होने के कारण यह सूर्य के रोहिणी काल में वर्षा की स्थिति निर्मित करेगा जिससे लगातार बारिश के योग बने रहेंगे।

इसके बाद वक्री गुरु ज्येष्ठा नक्षत्र में 31 मई को प्रातः 11.30 पर ज्येष्ठा नक्षत्र में प्रवेश करेगा। वक्री गुरु ज्येष्ठा नक्षत्र के तीसरे चरण में प्रवेश करेगा। ज्येष्ठा नक्षत्र स्वामी इंद्र है और ऐसी स्थिति में गुरु के वक्रत्व काल से देश में खंड वृष्टि होगी।

वहीं मंगल ग्रह पुनर्वसु नक्षत्र में 7 जून को प्रातः 7.40 पर प्रवेश करेगा। मंगल ग्रह के परिवर्तन की यह स्थिति विशेष योग को निर्मित करेंगी। पुनर्वसु नक्षत्र की स्वामिनी अदिति होने से वर्षा ऋतु के लिए किए जाने वाले अनुष्ठान सफल होंगे।

Read more : OMG! ये कैसा स्कूल, जहां फीस के बदले मांगा जाता है कचरा

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com