श्राद्ध-पक्ष 2018: कब शुरू हो रहा है पितृपक्ष, जानिये क्यों करते हैं श्राद्ध

0
39
pitru_paksh

Why do you do Shraddha

हिन्दू धर्म में श्राद्ध का बहुत महत्व है. 24 सितंबर से शुरू हो रहा है पितृपक्ष . साल में 15 दिन ऐसे होते हैं, जब श्राद्ध कर्म किए जाते हैं. जिस दौरान श्राद्ध कर्म किए जाते हैं, उसे ही पितृपक्ष या श्राद्धपक्ष कहते हैं. श्राद्ध का तात्पर्य होता है अपने पूर्वजों और पितरों के प्रति श्रद्धा और सम्मान प्रकट करना.ऐसी मान्यता है कि इस दौरान हमारे पूर्वज और पितर धरती पर जरूर आते हैं और तर्पण स्वीकार करते हैं .

Related image
via

जानिये क्या होता है श्राद्ध-पक्ष, क्या होगा श्राद्ध का सही समय,
इस बार पितृपक्ष सोमवार 24 सितंबर से शुरू होकर 08 अक्टूबर 2018 तक रहेगा. पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण और श्राद्ध कर्म को महत्वपूर्ण माना गया है. अगर किसी के ऊपर पितृदोष है तो उसे दूर करने के उपाय भी इन्हीं 15 दिनों के दौरान होते हैं. मान्यता है कि पितृ-पक्ष में अपने पूर्वजों का तर्पण या श्राद्ध नहीं करने वाले लोगों को पितृदोष का सामना करना पड़ता है. दरअसल पितृपक्ष एक जरिया है अपने पूर्वजों के ऋण को उतारने का.

Image result for पितृपक्ष
via

आप जानते है की पितृपक्ष भाद्रपद की पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन मास की अमावस्या तक चलता है. वास्तव में अश्विन मास के कृष्ण पक्ष के 15 दिनों के दौरान ही तर्पण होता है. श्राद्ध के पहले दिन यानी पूर्णिमा को उन लोगों का तर्पण होता है, जिनका निधन पूर्णिमा के दिन हुआ होता है.

Image result for पितृपक्ष
via

पिता का श्राद्ध अष्टमी एवं माता का श्राद्ध नवमी तिथि को करने की मान्यता है. अगर किसी व्यक्ति के देहांत की तारीख याद नहीं है तो उसका तर्पण आश्विन अमावस्या के दिन होता है. इस दिन को सर्वपितृ अमावस्या या महालय अमावस्या कहते हैं.अकाल मृत्यु को प्राप्त होने वाले पितरों के लिए चतुर्दशी तिथि को श्राद्ध किया जाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here