अब लोकसभा में लहराएंगे ‘पिस्टल पाण्डेय’ के भाई | Pistol Pandey’s brother in Loksabha

0
23
Pistol Pandey loksabha election

दिल्ली की पांच सितारा होटल हयात में अक्टूबर 2018 का वह मंजर शायद आपको याद हो, जिसमें एक शख्स एक जोड़े को सरेआम पिस्टल दिखाकर धमका रहा है। यह नजारा सोशल मीडिया(socialmedia) पर वायरल होने के बाद ही पुलिस जागी थी और पिस्टल लहराने वाले के खिलाफ बमुश्किल मुकदमा दायर किया था। दरअसल, वह पिस्टल लहराने वाला शख्स था उत्तरप्रदेश से बहुजन समाज पार्टी के सांसद रहे राकेश पांडे के बेटे और अरबपति ठेकेदार रितेश पांडे के भाई आशीष पांडे

साथ होटल हयात गया था और वहां महिला वाश रुम में घुसने को लेकर उसका कपल के साथ विवाद हो गया था। तब रितेश अपने भाई के पक्ष मे खुलकर सामने आए थे और उन्हें पुलिस से बचाने से लेकर हर फोरम पर समर्थन किया था। उस घटनाक्रम से पांडे बंधुओं की काफी बदनामी मीडिया और सोशल मीडिया(socialmedia) प्लेटफॉर्म पर हुई थी। उस घटनाक्रम को जेसिका लाल हत्याकांड के समकक्ष तक करार दिया गया था। तब रितेश ने घटनाक्रम को गलत तरीके से पेश करे का आरोप मीडिया पर ही मढ़ दिया था।

बहरहाल, उस वक्त रितेश आंबेडकर नगर लोकसभा क्षेत्र की विधानसभा सीट जलालपुरा से विधायक थे। कुछ दिन पहले तमाम विवादों के बाद भी पार्टी ने उनके पिता को इस क्षेत्र का चुनाव प्रभारी बनाया था और अब रितेश को लोकसभा का टिकट भी दे दिया गया। इसी लोकसभा क्षेत्र से उनके पिता राकेश पांडे 2009 में समाजवादी पार्टी के शंकरलाल माझी से चुनाव जीते हैं औऱ 2014 में भारतीय जनता पार्टी के हरिओम पांडे से हारे भी हैं।

जीत का अंतर पच्चीस हजार मतों से भी कम था, जबकि हार का अंतर डेढ़ लाख मतों से कुछ कम का ही रहा था। इस बार अभी तक भारतीय जनता पार्टी(BJP) आंबेडकर नगर सीट से अपना उम्मीदवार घोषित नहीं कर पाई है। इसके चलते अभी यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि चुनावी ऊंट किस करवट बैठेगा। इतना जरूर है कि पांडे कुल का इस लोकसभा क्षेत्र का अनुभव, उनका साधन संपन्न होना और जल्दी टिकट मिलना ऐसे बिंदू है जो बसपा को फायदा जरूर पहुंचाएंगे औऱ चुनाव के नतीजों को भी प्रभावित किए बगैर नहीं रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here