Breaking News

संसदीय समिति के सामने पेश हुए फेसबुक के अधिकारी, ‘चुनाव डेटा सुरक्षा’ पर मांगा जवाब | Parliamentary panel asks social media officials to answer ‘election data protection’

Posted on: 06 Mar 2019 21:04 by mangleshwar singh
संसदीय समिति के सामने पेश हुए फेसबुक के अधिकारी, ‘चुनाव डेटा सुरक्षा’ पर मांगा जवाब | Parliamentary panel asks social media officials to answer ‘election data protection’

लोकसभा चुनाव को देखते हुए मीडिया के इस्तेमाल को लेकर सरकार गंभीरता से काम ले रही है। फेसबुक, व्हॉट्सएप और इंस्टाग्राम के अधिकारियों से सूचना प्रोद्यौगिकी पर बनी संसद की स्टैंडिंग कमेटी ने इसकी सुरक्षा को लेकर कंपनी से 10 दिन के भीतर लिखित जवाब सौंपने को कहा गया है। संसद कमेटी ने कहा कि भारतीय चुनाव, राष्ट्रीय सुरक्षा और नागरिकों के डेटा की सुरक्षा देश की पहली प्राथमिकता है।

संसद की स्टैंडिंग कमेटी के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने कहा कि सोशल मीडिया ये सुनिश्चित करें कि उनके मंच का इस्तेमाल समाज को बांटने, हिंसा भड़काने, भारत की सुरक्षा से खिलवाड़ या विदेशी ताकतों के भारतीय चुनाव में दखल को लेकर न हो।संसदीय समिति ने माना कि कुछ सुधारों की जरूरत है और वो उसके लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा है कि वो चुनाव आयोग के संपर्क में रहेंगे और संबंधित मंत्रालयों की सूचना पर काम करेंगे।

पेशी के दौरान फेसबुक ग्लोबल पॉलिसी के हेड ने आतंकवाद और पुलवामा आतंकी हमले को लेकर अपने कर्मचारियों द्वारा की गई टिप्पणियों के लिए संसदीय समिति से मांफी मांगी। दरअसल पुलवामा आतंकी हमले को लेकर फेसबुक के कर्मचारियों ने आपत्तिजनक टिपप्णी की थी।

संसद की स्टैंडिंग कमेटी का जवाब देने में कंपनी असमर्थ रही

कमेटी द्वारा फेसबुक के अधिकारियों से पूछा गया कि आपका मंच समाज के काम आ रहा है या समुदायों को बांटने का काम कर रहा है? इसका जवाब देने में कंपनी असमर्थ रही। फेसबुक से पूंछा गया  कि सामग्री, विज्ञापन और मार्केटिंग से जुड़े कामकाज पर कौन सी नीतियां लागू होती हैं, इसका भी जवाब कंपनी नहीं दे पाई।

ट्विटर के ग्लोबल वाइस प्रेसीडेंट से सवाल-जवाब

इसके पहले 25 फरवरी को भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर की अध्यक्षता वाली समिति ने सोशल मीडिया के सभी अधिकारियों को तलब किया था। संसदीय समिति ने फेसबुक, वाट्सऐप और इंस्टाग्राम से कहा था कि वह अपने पेज पर सामग्री के जरिये स्वतंत्र और निष्पक्ष लोकसभा चुनाव के आयोजन में सहयोग सुनिश्चित करें। इसी मुद्दे को लेकर अभी हाल में ही ट्विटर के अधिकारियों को भी समिति ने तलब किया था और सवाल-जवाब किये।

संसदीय समिति के सामने ट्विटर के ग्लोबल वाइस प्रेसीडेंट कॉलिन क्रोवेल अपने अधिकारियों के साथ अभी हाल में ही पेश हुए थे। इस दौरान समिति ने ट्विटर के अधिकारियों से भी सोशल मीडिया पर नागरिक सुरक्षा से जुड़े मुद्दों और स्वतंत्र एंव निष्पक्ष लोकसभा चुनाव के आयोजन में सहयोग सुनिश्चित करने को कहा था।

साथ ही उन्होंने कहा कि हम संसदीय समिति के बेहद आभारी हैं जो उन्होंने हमें यहां आने का और यह बताने का मौका दिया कि हम आगामी लोकसभा चुनाव के लिए किस तरह तैयारी कर रहे हैं और अपने प्लेटफॉर्म पर हम भारतीयों की सुरक्षा में सहायता कर रहे हैं।

 

 

 

 

 

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com