Pandit Pradeep Mishra Ke Upay: सोशल मीडिया पर अपनी कथा से चर्चा में आए पंडित प्रदीप मिश्रा ऐसे कई उपाय बताते हैं जो जीवन की समस्त परशानियों का हल कर सकती हैं। पंडित प्रदीप मिश्रा अपनी प्रत्येक कथा में भगवान शिव को नियमित एक लोटा जल अर्पित करने की राय देंते हैं। इसके साथ ही वे शिव महापुराण के मंत्र श्री शिवाय नमस्तुभ्यं का 108 बार जाप करने को कहते हैं। बताया जाता है कि यह मंत्र महा मृत्युंजय मंत्र की तरह ही बेहद प्रभावशाली है। इसके जप से जीवन की समस्त परेशानियों से रहत मिलती हैं और घर में सुख-शांति आती हैं।

यहां पढ़‍िए पंडित प्रदीप मिश्रा द्वारा दिए गए उपाय

वैसे तो पंडित प्रदीप मिश्रा अनगिनत उपाय बताते हैं लेकिन हम आपको यहां कुछ जरुरी उपाय बताने जा रहे हैं जिनका आपकी रोजमर्रा के जीवन में अनेकों कष्ट है वो मनुष्य ये खास उपाय करें।

Also Read – MP Board Exam 2022: मध्यप्रदेश बोर्ड 5वीं, 8वीं एग्जाम की डेटशीट हुई जारी , यहां देखें पूरा टाईम टेबल

1) मंगलवार-बुधवार को न लें ऋण

ऐसा माना जाता हैं कि मंगलवार और बुधवार को लिया गया ऋण कभी नहीं चुकता, ऐसे में इन दो दिनों में कर्ज ना लेने की राय दी जाती है। कर्ज से मुक्ति पाने के लिए मंगलवार को भगवान शिव को मसूर की दाल चढ़ाते हुए ॐ ऋणमुक्तेश्वर महादेवाय नम: मंत्र का जाप अवश्य ही करना चाहिए।

2) बसंत पंचमी पर चढ़ाएं ये फूल

अगर कोई बच्चा पढ़ने में कमजोर है तो बसंत पंचमी के दिन उसके हाथ से 31 सरसों के फूल भगवान भोल्रनाथ को अर्पित करवा दें। माना जाता है कि ऐसा करने से उसका मन स्वयं ही पढ़ाई की ओर बढ़ने लगेगा।

3) बच्चे की चिड़चिड़ापन ऐसे करें दूर

छोटा बच्चा अगर बहुत रोता है और अक्सर चिड़चिड़ा रहता है तो 5 सोमवार उसके हाथ से भगवान भोलेनाथ को शहद चढ़वाएं। माना जाता है ऐसा करने से बच्चे का व्यवहार शांत होगा। और वो चिड़चिड़ नहीं करेगा।

4) गंभीर बीमारी से छुटकारा पाने के लिए

गंभीर रोग से छुटकारा पाने के लिए शमी के फूल को नीलकंठेश्वर महादेव का नाम लेकर शिवलिंग पर चढ़ाना चाहिए। इसी तहर बार-बार बीमार रहने वाले लोगों को भगवान शिव को गाय का घी अर्पित करना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से बीमार व्यक्ति रोग तुरंत होता है।

5) सोमवार के दिन करें महामृत्युंजय मंत्र का जप

सोमवार के दिन महामंत्र अथवा महामृत्युंजय मंत्र का 108 बार जप करें और गाय के कच्चे दूध से भगवान शिव का अभिषेक करें। इससे भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है और जीवन में प्रगति के अवसर बढ़ते है।