Breaking News

पाकिस्तान-ऑस्ट्रेलिया मैच: तेरी जीत से ज्यादा मेरी हार का चर्चा है

Posted on: 13 Jun 2019 13:43 by Surbhi Bhawsar
पाकिस्तान-ऑस्ट्रेलिया मैच: तेरी जीत से ज्यादा मेरी हार का चर्चा है

इंग्लैंड से परीक्षित यादव

नई दिल्ली: छह पाकिस्तानी बल्लेबाजों ने तीस से ज्यादा रन बनाए। हसन अली और वहाब रियाज को छोड़ दिया जाए तो सात बल्लेबाजों में से चार के बल्ले से रन निकले हैं, फिर भी पाकिस्तान के माथे हार चस्पा है। चिंदी लेकर थान नहीं बनता। बाबर आजम से लेकर इमाम उल हक और फिर मोहम्मद हफीज…सब के सब छुट्टे निकले।

टॉस जीत कर पाकिस्तानी कप्तान ने गेंदबाजी का फैसला तो सही किया था, मगर आवारा गेंदबाजी ने रन लुटवा दिए और रही सही कसर खराब फील्डिंग ने पूरी कर दी। पाकिस्तान भले ही हार गया हो लेकिन उसने ऑस्टे्रलिया को औकात बता दी, कि अब उसका दबदवा खत्म हो गया और इस बार आखरी चार में भी फोड़े पडने वाले हैं, गेंदबाजी तो खोखली है ही बल्ले भी दस-दस किलो के हो रहे है, कि उठ ही नहीं रहे। हसन और वहाब रन बनाने की बजाए ढंग की गेंदबाजी कर देते तो पाकिस्तान का ज्यादा भला होता।

चेस तो पाकिस्तान की जन्मजात बीमारी है। ना पुरखों ने किया और ना आज की औलादें कर रही हैं। टॉस जीतकर फील्ंिडग यहां कोई भी टीम करती, लेकिन पाकिस्तानी गेंदबाज तो कसम खाकर उतरे थे कि ऑस्टे्रलिया को चार सौ के पार पहुंचाना है। अगर मोहम्मद आमिर के इस पंजे को बाकी गेंदबाजों का साथ मिलता तो ऑस्टे्रलिया दो सौ भी ना बना पाता, बाकी जो कसर थी वो पाकिस्तानी फील्डरों ने छलनी लगा कर पूरी कर दी।

जरूरी नहीं है कि सबक मैच खत्म होने के बाद ही सीखा जाए। चलते मैच से भी सीखा जा सकता है। सौ रन बनाने के बाद भी डेविड वार्नर जब बड़े शॉट के लिए गए तो झेला गए, यहीं जाना था कि पिच पर क्या करना है। ना तो बाकी ऑस्टे्रलिया बल्लेबाजों ने इससे सबक लिया ना पाकिस्तानी बल्लेबाज कुछ सीखा। आमिर से भी बाकी गेंदबाज सीख जाते तो ही पाकिस्तान का भला हो जाता। इस सबके बावजूद पाकिस्तान के पास मौका था, लेकिन वो तो कल मैच ढोलने आए थे।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com