Breaking News

HDFC बैंक का शुक्रवार को ‘रक्तदान शिविर’ का आयोजन

Posted on: 05 Dec 2018 09:32 by Ravindra Singh Rana
HDFC बैंक का शुक्रवार को ‘रक्तदान शिविर’ का आयोजन

मुंबई: एचडीएफसी बैंक 7 दिसंबर को अपने देशव्यापी रक्तदान शिविर का 12वां संस्करण आयोजित कर रहा है। यह अभियान एचडीएफसी बैंक के ‘परिवर्तन’ का सीएसआर अभियान है। परिवर्तन सामाजिक विकास के कार्यक्रमों के लिए एचडीएफसी बैंक का छत्रवाहक अभियान है। इंडिया इंक के सबसे बड़े एक दिवसीय रक्तदान अभियान में रक्तदान के लिए आगे आने के लिए इस साल ज्यादा से ज्यादा लोगों को आकर्षित एवं प्रेरित किया जा रहा है।

इसमें सहयोग देने और अपने नज़दीकी षिविर का स्थान जानने के लिए एचडीएफसी बैंक की वेबसाईट  www.hdfcbank.com/stopmithani पर जाएं। 7 दिसंबर के षिविर से पूर्व बैंक ने अपने अभियान #StopMithani #YourBloodMatters का प्रारंभ किया है, जिसमें आम लोगों खासकर युवाओं की प्रेरणाप्रद कहानियां बताई जा रही हैं, जो रक्तदान करके अपने समाज के रोल माॅडल बन गए। इससे भारत में खून की उपलब्धता में 1.9 मिलियन यूनिट्स की वार्षिक कमी को पूरा करने में योगदान मिलेगा।

मुंबई में मीरा रोड पर रहने वाले 64 वर्षीय ज्योतिंद्र सी मिठानी की कहानी बहुत प्रेरणाप्रद है। पिछले 40 सालों में श्री मिठानी ने 151 बार रक्तदान किया है। उन्होंने पहली बार अपने रक्त का दान 1971 के भारत पाक युद्ध के दौरान किया था, जब हमारे सशस्त्र बलों के लिए खून दान करने की अपील की गई थी। उसके बाद उन्होंने इसे अपने जीवन का उद्देष्य बना लिया ताकि सुरक्षित खून की मांग और उसकी आपूर्ति के बीच की कमी को पूरा किया जा सके। साल में 4 बार रक्तदान करने का उनका प्रेरणाप्रद रिकाॅर्ड उनके 65 साल पूरे होने के बाद पूरा हो जाएगा। श्री मिठानी उनकी बड़ी आयु को देखते हुए मेडिकल एडवाईज़री के बाद भी नहीं रुके। श्री मिठानी का यह स्टैंड कि ‘जब भारत शुरु करेगा, वो तभी रुकेंगे’, बैंक के इस अभियान का मूलबिंदु है और वह इस संदेष का प्रसार कर रहा है कि ‘श्री मिठानी को रोकने के लिए भारत शुरु करे’।

एचडीएफसी बैंक के कंट्री हेड, आपरेशसं, श्री भावेष ज़वेरी ने कहा, ‘‘#yourbloodmatters अभियान के सिद्धांत ने बैंक के वार्षिक रक्तदान अभियान को दिशा दी, ताकि हमारे समाज में परिवर्तन लाया जा सके। श्री मिठानी की तरह ही बैंक के अनेक कर्मचारी हैं, जिन्होंने रक्तदान को अपने जीवन का मिषन बना रखा है। उनका उद्देष्य अन्य देषवासियों, खासकर युवाओं को आगे आने और इस महान लक्ष्य की प्राप्ति में सहयोग करना है। परिवर्तन तभी आ सकता है, जब हम सभी एक समान उद्देष्य के लिए मिलकर काम करें और मैं हर किसी से आग्रह करता हूँ कि वह आगे आए और रक्तदान करे, ताकि भारत में रक्त की मांग एवं आपूर्ति के बीच की कमी को दूर करने में मदद मिले। रक्त की हर बूंद बहुमूल्य है।’’

एचडीएफसी बैंक ने अपना वार्षिक रक्तदान अभियान सन, 2007 में प्रारंभ किया ताकि ट्रांसफ्यूज़न के लिए सुरक्षित खून की कमी को दूर किया जा सके। सरकार के नए आंकड़ों के अनुसार, भारत में 2016-17 में 1.9 मिलियन यूनिट खून की कमी थी, जिससे 320,000 से ज्यादा दिल की सर्जरी या 49,000 अंगों का ट्रांसप्लांट किया जा सकता था।
बीते सालों में इस अभियान द्वारा एचडीएफसी बैंक 9,00,000 यूनिट से अधिक खून एकत्रित कर चुका है। विषेषज्ञों के अनुसार 1 यूनिट खून से 3 जिंदगियां बच सकती हैं। 7 दिसंबर को 1040 षहरों में 3200 से अधिक षिविरों में खून एकत्रित किया जाएगा।

स्थान शिविरों की संख्या

एचडीएफसी बैंक की ष्षाखाएं 1084
काॅलेज 977
काॅर्पोरेट 491
अन्य स्थान 598
पुलिस एवं रक्षा क्षेत्र 77
कुल योग 3229

नीचे रक्तदान की प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान की जा रही है:
ऽ हर रक्तदाता का मिनी-फिज़िकल किया जाता है, जिसमें रक्तदाता का तापमान, रक्तचाप, नब्ज एवं हीमोग्लोबिन नापा जाता है, ताकि सुनिष्चित किया जा सके कि रक्तदाता खून देने के लिए पूरी तरह स्वस्थ है।
ऽ रक्तदान करने में 10-12 मिनट से भी कम समय लगता है। आपके द्वारा शिविर आने से लेकर वापस जाने में लगने वाला पूरा समय लगभग एक घंटे पंद्रह मिनट का है।
ऽ रक्तदान करने वाले के द्वारा पिछली बार रक्तदान कम से कम तीन माह पहले किया गया होना चाहिए।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com