Breaking News

SC द्वारा प्रमोशन के संबंध में यथास्थिति का आदेश, सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों की पद्दोन्ती में बाधा क्यों नही है?

Posted on: 26 Apr 2019 16:51 by Surbhi Bhawsar
SC द्वारा प्रमोशन के संबंध में यथास्थिति का आदेश, सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों की पद्दोन्ती में बाधा क्यों नही है?

प्रमोशन के एक प्रकरण में , सुनवाई के पश्चात पाया गया है कि, जब कोई अभ्यर्थी, प्रमोशन हेतु अन्य सभी प्रकार से पात्र है एवं पदों की रिक्तियाँ स्थापित हैं, जिन पर प्रमोशन किया जाना है, उक्त परिस्थिति में, शासन द्वारा , माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा, आर. बी राय, के प्रकरण में किये गए यथास्थिति के आदेश का सहारा लेकर, पात्र कर्मचारी का प्रमोशन निषेध या रोका नही जा सकता है। उच्च न्यायालय, जबलपुर द्वारा निम्न कारणो के आधार पर, उच्चतम न्यायालय के यथास्थिति के आदेश को, सामान्य वर्ग के कर्मचारियों के ऊपर लागू नही पाया गया है।

  1. उच्चतम न्यायालय, दिल्ली द्वारा, प्रमोशन के संबंध में दिया गया, यथास्थिति का आदेश, माननीय हाई कोर्ट जबलपुर, द्वारा, पद्दोन्ती नियम 2002 को निरस्त करने से उद्भूत हुआ था। यथास्थिति का आदेश, अपात्र/नियम विरुद्ध प्रमोशन प्राप्त कर्मचारियों को पूर्व पद पर रिवर्ट/ वापस किये जाने से रोकने के उद्देश्य से दिया गया था, जिन्हें, पद्दोन्ती नियम 2002 के पालन में एवं एम नागराज के प्रकरण में, उच्चतम न्यायालय द्वारा, प्रमोशन में आरक्षण के संबंध में , प्रतिपादित विधि के विरुद्ध, प्रमोशन दिया गया था।
  2. अविवादित रूप से, सामान्य वर्ग का कर्मचारी, पद्दोन्ती नियम 2002 का लाभ नही प्राप्त कर रहा है। अतः माननीय उच्चतम न्यायालय का यथास्थिति का अन्तरिम आदेश उसके ऊपर लागू नही होता है। कर्मचारी प्रमोशन अन्य अहर्ता रखने पर प्रमोशन का पात्र है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com