Breaking News

कर्नाटक में कल शाम 4 बजे शक्ति परीक्षण का आदेश, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

Posted on: 18 May 2018 07:01 by Surbhi Bhawsar
कर्नाटक में कल शाम 4 बजे शक्ति परीक्षण का आदेश, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

कर्नाटक: कर्नाटक मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने राज्यपाल के वजुभाई वाला फैसले को पलट दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने बीजेपी को झटका देते हुए शनिवार शाम 4 बजे विधानसभा में शक्ति परीक्षण का आदेश दिया है। गौरतलब है कि राज्यपाल ने बीजेपी को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था।

कैसे चली कोर्ट की कार्यवाही-
सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू होते ही कांग्रेस की ओर से अभिषेक मनु सिंघवी और बीजेपी की ओर से मुकुल रोहतगी ने कोर्ट में अपना-अपन पक्ष रखा। रोहतगी ने येदियुरप्पा की ओर से राज्यपाल को भेजे गए दोनों पत्र सुप्रीम कोर्ट में पेश किए और दलील दी कि बीजेपी राज्य में सबसे बड़ी पार्टी है। उन्होंने कहा कि नंबर दो और नंबर तीन पार्टियां बीजेपी से काफी पीछे हैं।

रोहतगी ने राज्यपाल को दिए गए येदियुरप्पा को पत्रों को कोर्ट में पढ़कर सुनाया। जिसपर जस्टिस सीकरी ने कहा कि एक तरफ कांग्रेस और जेडीएस ने गवर्नर को बहुमत की संख्या का पत्र दिया है, दूसरी तरफ येदियुरप्पा का दावा है कि उनके पास बहुमत है। किस आधार पर राज्यपाल ने येदियुरप्पा को गठबंधन के ऊपर तरजीह दी? Image result for मुकुल रोहतगीइसके जवाब में मुकुल रोहतगी ने सरकारिया कमीशन का जिक्र करते हुए कहा कि येदियुरप्पा को सदन में अपना बहमुत साबित करना है। सरकारिया कमीशन इस मामले में गाइडलाइन है और ये गवर्नर का विशेषाधिकार है।  राज्यपाल ने अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल किया है और उन्हें जमीनी हकीकत पता है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने प्रस्ताव देते हुए कहा कि बेहतर होगा कि शनिवार को बहुमत परीक्षण हो।

इस पर जस्टिस सीकरी ने कहा कि अगर स्पष्ट बहुमत होता, तो कोई समस्या नहीं होता, अगर चुनाव से पहले गठबंधन होता तो स्थिति अलग होती, लेकिन चुनाव बाद गठबंधन से इसकी प्राथमिकता कम नजर आती है।Image result for जस्टिस सीकरीइस बीच सिंघवी ने कहा कि अगर कल बहुमत परीक्षण के लिए सदन को बुलाया जाता है, तो भी इस मामले में कानून सम्मत निर्णय होना चाहिए कि क्या इस मामले में राज्यपाल निर्णय ले सकते हैं। साथ ही सिंघवी ने कहा- कि राज्यपाल कैसे बीजेपी को बहुमत सिद्ध करने का मौका दे सकते हैं, जबकि कांग्रेस-जेडीएस के पास पूरी संख्या है।

इस पर जस्टिस सीकरी ने कहा कि या तो आप कानून के अनुसार चलें या फिर शनिवार को सदन में बहुमत परीक्षण हो। ये आपको चुनना है, दूसरा विकल्प ज्यादा व्यवहारिक है। इसके बाद सिंघवी ने कहा कि- येदियुरप्पा ने कहा कि हमारे साथ अलां फलां विधायक हैं, लेकिन अभी तक येदियुरप्पा ने कोई सूची नहीं सौंपी है। दूसरी ओर कांग्रेस-जेडीएस ने सभी 117 के नाम लिख कर राज्यपाल को दिए।

सुप्रीम कोर्ट में कुमारस्वामी की ओर से पेश हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि ऐसे मामलों में राज्यपाल को अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए? सिब्बल ने कहा कि सरकार बनाने का न्यौता गठबंधन के साथ सबसे बड़ी पार्टी को मिलना चाहिए या पर्याप्त बहुमत वाली पार्टी को।Image result for कपिल सिब्बलइस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दोनों पक्ष के अपने-अपने दावे हैं। कोर्ट कानून के अनुसार फैसला करेगा। कानूनी प्रकिया का पालन होना चाहिए। कपिल सिब्बल ने कहा कि हमारे पास हमारे सभी विधायकों के दस्तखत वाली चिट्ठी है। जिस पर रोहतगी और तुषार ने कहा कि फ्लोर टेस्ट से ही सच सामने आएगा।कपिल सिब्बल ने कहा कि कांग्रेस के साथ जेडीएस भी जल्दी फ्लोर टेस्ट चाहती है। फ्लोर टेस्ट तुरन्त होना चाहिए।: कांग्रेस नेता बीके हरिप्रसाद ने कहा कि शनिवार को शक्ति परीक्षण के लिए हम तैयार हैं।

इस पर बीजेपी के वकील मुकुल रोहतगी ने तत्काल फ्लोर टेस्ट कराए जाने का विरोध किया। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने 15 दिन का वक्त दिया लेकिन कोर्ट से कम से कम एक सप्ताह का समय मिलना चाहिए।Image result for मुकुल रोहतगीरोहतगी ने कहा कि प्रोटेम स्पीकर भी बनाया जाना है, वाजिब वक्त मिले। कांग्रेस और जेडीएस ने अपने विधायक दूर बन्द कर रखे हैं। उन्हें लाने में भी वक्त लगेगा।Image result for मुकुल रोहतगीइसके बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए शक्ति परीक्षण शनिवार शाम 4 बजे करने का आदेश दे दिया। कोर्ट का यह फैसला बीजेपी के लिए बड़ा झटका है। सूत्रों की माने तो कांग्रेस और जेडीएस शनिवार को होने वाले शक्ति परीक्षण के लिए आश्वस्त दिखे, वही बीजेपी कुछ और समय की मांग करते हुए पूर्ण आश्वस्त नजर नहीं आई।

लेकिन कांग्रेस और जेडीएस की तरफ पेश हुए वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि आज सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐतिहासिक आदेश दिया है। आज से लेकर कल तक येदियुरप्पा कोई भी नीतिगत निर्णय नहीं लेंगे। शनिवार को प्रोटेम स्पीकर के अंतर्गत विश्वास मत का परीक्षण होगा।

कोर्ट के फैसले के बाद कर्नाटक के बीजेपी प्रभारी प्रकाश जावडेकर ने कहा- बीजेपी बहुमत साबित करेगी।

कोर्ट के फैसले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से हमारे फैसले पर मुहर।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com