Breaking News

NSOSYF ने महिला शिक्षक दिवस के रूप में मनाया सावित्रीबाई फुले का जन्मदिन

Posted on: 03 Jan 2019 17:25 by Ravi Alawa
NSOSYF ने महिला शिक्षक दिवस के रूप में मनाया सावित्रीबाई फुले का जन्मदिन

राजपुर/बड़वानी : देश की पहली महिला अध्यापिका सावित्रीबाई फुले के जन्म दिवस को नेशनल एस सी. एस टी.ओबीसी स्टुडेंट्स एण्ड युथ फ्रंट नसोसवायएफ ने महिला शिक्षक दिवस के रूप में मनाया।

शासकीय महाविद्यालय राजपुर में आयोजित कार्यक्रम के मुख्य अतिथि उप प्राचार्य प्रो. भारत सिंह अवासे व विशेष अतिथि अध्यापक कांतिलाल बमनका थे। जिन्होंने महापुरुषों के छाया चित्र पर माल्यापर्ण कर कार्यक्रम की शुरुआत की। प्रो. अवासे जी ने उनके जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया किभारत की पहली महिला शिक्षिका और समाज सुधारक सावित्रीबाई फुले की आज जयंती है.

Must Read:इस महिला ने खोला था हिंदू लड़कियों के लिए देश में पहला स्कूल

सावित्रीबाई फुले का जन्म 3 जनवरी 1831 को महाराष्ट्र स्थित सतारा के गांव नायगांव में हुआ था. सावित्रीबाई फुले भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल और पहले किसान स्कूल की संस्थापक थीं. उन्होंने महिलाओं को शिक्षित करने और उनके अधिकारों की लड़ाई में अहम भूमिरा निभाई थी. आज से करीब डेढ़ सौ साल पहले फुले ने महिलाओं को भी पुरुषों की तरह ही सामान अधिकार दिलाने की बात की थी।

साथ ही प्रो. पी के उचावर व छात्र नेता अनिल बड़ौले ने सम्बोधित करते हुए कहा सावित्रीबाई फुले को प्रथम महिला शिक्षिका, प्रथम शिक्षाविद् और महिलाओं की मुक्तिदाता कहें तो कोई भी अतिशयोक्ति नही होगी, वो कवयित्री, अध्यापिका, समाजसेविका थीं। सावित्रीबाई फुले बाधाओं के बावजूद स्त्रियों को शिक्षा दिलाने के अपने संघर्ष में बिना धैर्य खोये और आत्मविश्वास के साथ डटी रहीं।

इस कार्यक्रम के बारें में जानकारी देते हुए सचिन पटेल ने बताया कि कार्यक्रम संचालन संगठन जिला उपाध्यक्ष अखिलेश पटेल ने किया। आभार सावन बाबा गनवानी ने व्यक्त किया। इस दौरान छात्र गोलु लोहारे, महेंद्र जमरे, दिपक शर्मा, विकास सोलंकी, राहुल वास्कले, सपना निंगवाल, नंदनी निंगवाल, साधना बघेल, रिना जमरे, गायत्री आदि छात्र छात्राएं व कार्यकर्ता मौजूद थे.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com