बेटा-बहू ही नहीं, अब दामाद-बेटी को भी रखना होगा मां-बाप का ख्याल, वरना होगी जेल

केंद्रीय कैबिनेट की तरफ से न सिर्फ खुद के बच्चें, बल्कि दामाद और बहू को भी देखभाल के लिए जिम्मेदारी उठाने का प्रस्ताव सरकार ने किया है। यदि अब दामाद और बहू अपने बुजुर्गों का ख्याल नहीं रखेंगे तो उन्हें अब जेल भी हो सकती है।

0
65
senior citizen

नई दिल्ली : आज कल बच्चे, बहु और बेटे अपने माता पिता का दुःख नहीं समझते है और उनका अच्छे से ख्याल भी नहीं रखते है। इन सबको देखते हुए अब सरकार एक बड़ा कदम उठाने जा रही है। दरअसल, सरकार ने मेंटिनेंस ऐंड वेलफेयर ऑफ पैरंट्स एंड सीनियर सिटीजन एक्ट 2007 के तहत बुजुर्गों का ख्याल रखने वालों पर विस्तार दिया है।

बता दे कि, केंद्रीय कैबिनेट की तरफ से न सिर्फ खुद के बच्चें, बल्कि दामाद और बहू को भी देखभाल के लिए जिम्मेदारी उठाने का प्रस्ताव सरकार ने किया है। यदि अब दामाद और बहू अपने बुजुर्गों का ख्याल नहीं रखेंगे तो उन्हें जेल भी हो सकती है। इस नियम को कैबिनेट की तरफ से अनुमति मिल चुकी है। इस नए नियम के तहत माता-पिता, सास-ससुर को शामिल किया गया है। इसके लिए चाहे फिर वो बुजुर्ग हो या ना हो आपको उनका ख्याल अच्छे से रखना होगा वरना आपको जुर्मना तो लगेगा ही साथ ही आपको 6 महीने की जेल भी हो सकती है।

दरअसल, उम्मीद की जा रही है कि अगले हफ्ते इस बिल को सदन में पेश किया जाएगा। खबर के मुतबिक इस अधिनियम में 10 हजार रुपये मेंटिनेंस देने की सीमा को भी खत्म किया जा सकता है। इस नियम के तहत देखभाल नहीं करने वाले बच्चों को 6 महीने जेल की सजा हो सकती है। इस नियम में देखभाल के साथ ही घर और सुरक्षा को भी शामिल किया गया है।

देखभाल के लिए तय की गई राशि का आधार बुजुर्गों, अभिभावकों, बच्चों और रिश्तेदारों के रहन-सहन के आधार पर किया जाएगा। प्रस्ताव पास होने की जानकारी देते हुए केंद्रीय सूचना व प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि बिल लाने का मकसद बुजुर्गों का सम्मान सुनिश्चित करना है।

बता दे कि, देखभाल करने वालों में गोद लिए गए बच्चे, सौतेले बेटे और बेटियों को भी शामिल किया गया है। इसी के साथ सरकार ने नोडल ऑफिसर नियुक्त करने का ऐलान किया है। जिसके तहत बुजुर्गों तक पहुंच बनाने के लिए प्रत्येक पुलिस ऑफिसर को एक नोडल ऑफिसर नियुक्त करना होगा। जिससे बुजुर्गों के शारीरिक और मानसिक कष्ट में कमी आएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here