Breaking News

अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में जुटी मोदी सरकार, गठित की दो कैबिनेट कमेटी | No Easy Way for New Modi Government many challenges to bring the Economy back on Track…

Posted on: 05 Jun 2019 21:04 by bharat prajapat
अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में जुटी मोदी सरकार, गठित की दो कैबिनेट कमेटी | No Easy Way for New Modi Government many challenges to bring the Economy back on Track…

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव में मिली शानदार जीत के बाद मोदी सरकार सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था को सुधारने में जुट गई है। जिसके चलते केन्द्र सरकार ने रोजगार और निवेश को लेकर बड़ा फैसला लेते हुए कैबिनेट कमेटी का गठन करने का फैसला लिया है।

बता दें कि इस कमेटी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और रेल मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्री भी शामिल रहेंगे। बताया जा रहा है कि सरकार की ओर से बनाई गई कमेटी पीएम की अध्यक्षता में आर्थिक विकास में गति लाने निवेश का माहौल बेहतर करने के अलावा रोजगार के अवसर को बढ़ाने के मुद्दों पर काम करेगी।

पांच संदस्यीय कमेटी में ये मंत्री शामिल-

खबरों की मानें तो निवेश और विकास पर गठित की गई 5 सदस्य कैबिनेट कमेटी में गृहमंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और रेल मंत्री पीयूष गोयल शामिल है।

दस संदस्यीय कमेटी में ये मंत्री शामिल-

वही रोजगार एवं कौशल विकास को लेकर बनाई गई कमेटी में चेयर पर्सन समेत 10 सदस्य मौजूद रहेंगे इसमें गृह मंत्री शाह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और पीयूष गोयल के अलावा कृषि एवं किसान कल्याण ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कौशल विकास एवं एंटरप्रेन्योरशिप मंत्री महेंद्र नाथ पाण्डेय, राज्य मंत्री संतोष कुमार गंगवार और आवास एवं शहर मंत्री राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी शामिल है।

विकास दर पंहुची 5.8 फिसदी पर-

गौरतलब है कि हाल ही में गठित हुई मोदी सरकार के सामने अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती सबसे बड़ी चुनौती है पिछले पांच माह में पहली बार विकार दर में गिरावट आई है। जो कि पिछले वित्त वर्ष की तीन तिमाही की तुलना में काफी कम है। साथ ही बेरोजगारी भी 45 साल की तुलना में सबसे उंचे स्तर पर पंहुच गई है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com