गिरती जीडीपी के लिए आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ज़िम्मेदार – नीति आयोग

0
25

NPAs hampered economy’s growth, not demonetisation

वित्तीय वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही आ चुकी है, जिसमें पिछले तीन सालों में सबसे ज़्यादा विकास दर दर्ज की है, मगर हाल ही में आए नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार के बयान ने सनसनी मचा दी है। दरअसल राजीव कुमार ने दावा किया है कि बीते तीन साल अर्थव्यवस्था में दर्ज हुई गिरावट के लिए रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन जिम्मेदार हैं। राजीव कुमार के अनुसार वित्त वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही से पहले लगातार 9 तिमाही में जो लगातार गिरावट आ रही थी उसकी वजह तत्कालीन गवर्नर राजन की आर्थिक नीतियां वजह थी।

via

तीन साल में हुई विकास दर में गिरावट बैंक के एनपीए में हुई बढ़ोत्तरी के कारण हुई है। कुमार ने कहा कि जिस दौरान मोदी सरकार ने देश की कमान अपने हाथ में थामी तब बैंकों का एनपीए 4 लाख करोड़ रुपये था। मगर इसके बाद मार्च 2017 तक यह एनपीए बढ़कर 10.5 लाख करोड़ के आंकड़े से भी बाहर चला गया। जिसके लिए रघुराम राजन की आर्थिक नीतियां ही ज़िम्मेदार हैं।

via

बैंक के एनपीए का आंकलन करने वाली राजन की नई पद्दति से बैंको का भरोसा कंपनियों पर से लगातार उठता रहा वहीं दूसरी ओर बैंकों का एनपीए लगातार बढ़ता रहा। यही वजह है कि बैंक ने कंपनियों को कर्ज देना बंद कर दिया जिसके स्वरुप अर्थव्यवस्था में सुस्ती छाने लगी और जीडीपी के आंकड़े कमजोर हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here