पाकिस्तान पर आई नई मुसीबत, महंगाई ने तोड़े रिकॉर्ड | New trouble for Pakistan, inflation hits record

0
51

पाकिस्तान अपनी आर्थिक स्थिति में लगातार निचे गिरता जा रहा है. पाकिस्तान की ज़रूरत के लिए पाक सरकार के पास धन नहीं हैं. इसी बीच पाक को और महंगाई का फटका लगने वाला है. पाकिस्तान में महंगाई पिछले पांच साल के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. मार्च महीने में महंगाई 9.4 फीसदी तक पहुंच गई. महंगाई बढ़ने, रुपये में गिरावट और कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों से पाकिस्तान के केंद्रीय बैंक ने ब्याज दरें बढ़ाकर 10.75 फीसदी कर दी है.

गई है. इस दौरान वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें पाकिस्तान में महंगाई बढ़ने की मुख्य वजह हैं. पाकिस्तानी अखबार डॉन के मुताबिक पिछले तीन महीने में ताजी सब्जियों, फलों और मांस के दाम खासकर शहरों में लगातर बढ़े हैं. जुलाई से मार्च के दौरान औसत महंगाई साल दर साल आधार पर 6.97 फीसदी बढ़ी है.

सरकार ने पिछले साल के लिए सालाना महंगाई दर 6 फीसदी करने का लक्ष्य रखा था. लेकिन फरवरी में भी महंगाई कम नहीं हुई बल्कि उसका पाक सरकार को विप्रित परिणाम मिला. इसके पहले साल 2017-18 में पाकिस्तान में औसत महंगाई दर 3.92 फीसदी और 2016-17 में 4.16 फीसदी थी. पाकिस्तान में महंगाई बढ़ने, रुपये में गिरावट और कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों से यह अपरिहार्य हो गया था कि केंद्रीय बैंक स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में सख्त नीति अपनाए. गत शुक्रवार एसबीपी ने नीतिगत दर आधा फीसदी बढ़ाकर 10.75 फीसदी कर दिया, जो कि पहले से ही छह महीने के ऊंचे स्तर पर है.

बता दें कि, पाक सरकार ने पेट्रोल की कीमतों में 6.45 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी है. अप्रैल माह के लिए लागू कीमतों के अनुसार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 6 रुपये प्रति लीटर और किरोसीन तथा लाइट डीजल ऑयल (LDO) में 3 रुपये प्रति लीटर की बढ़त की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here