इंदौर। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में बड़ा फेरबदल देखने को मिला है। विधानसभा चुनाव से पहले मध्य प्रदेश कांग्रेस ने नई कार्यकारिणी की घोषणा की है। जिसमें कई जिलों के शहर और जिला अध्यक्ष बदले गए हैं। नई कार्यकारिणी में 50 उपाध्यक्ष और 105 प्रदेश सचिव बनाए गए हैं। जनरल सेक्रेटरी केसी वेणुगोपाल ने सूची जारी की है। कहा जा रहा है कि नई कार्यकारिणी में सभी गुटों को साधने की कोशिश की गई है।

पिछले कई सालों से इंदौर में कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में गिने जाने वाले विनय बाकलीवाल को पद से हटा दिया गया है वहीं उनकी जगह अब अरविंद बागड़ी को दे दिया गया है। इस बड़े फैसले से समझा जा सकता है कि विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने कमर कस ली है और इस बार मैदान में वह बीजेपी को कड़ी टक्कर देती हुई नजर आने वाली है।

Also Read – रक्षामंत्री और CM शिवराज ने MP के इस जिले को दी करोड़ों की सौगात, कॉलेजों का किया शिलान्यास

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता माणक अग्रवाल की पीसीसी में वापसी हुई है। माणक को प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया गया है। आपको बता दें सीएम शिवराज के साले संजय सिंह मसानी को एक बार फिर एमपी कांग्रेस का उपाध्यक्ष बनाया गया है। वहीं दूसरी तरफ भोपाल के शहर और ग्रामीण जिलाध्यक्षों को लेकर अभी तक कोई फैसला नहीं किया गया है। इसके साथ ही राजीव सिंह को महामंत्री से उपाध्यक्ष बनाया गया है तथा मानक अग्रवाल की पीसीसी की टीम में वापसी हुई है।

मध्य प्रदेश कांग्रेस की पॉलिटिकल अफेयर कमेटी का गठन कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने किया है इस कमेटी में सीनियर और जूनियर नाथ यानि कमलनाथ और नकुल नाथ दोनों को शामिल किया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा बनाई गई 21 सदस्यीय कमेटी में मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह नेता प्रतिपक्ष डॉक्टर गोविंद सिंह के अलावा कांतिलाल भूरिया सुरेश पचौरी अरुण यादव अजय सिंह राहुल विवेक तंखा राजमणि पटेल नकुल नाथ बाला बच्चन जीतू पटवारी सुरेंद्र चौधरी रामनिवास रावत नर्मदा प्रसाद प्रजापति सज्जन सिंह वर्मा आरिफ अकील कमलेश्वर पटेल महेंद्र जोशी रामेश्वर नीखरा और शोभा ओझा को शामिल किया है।