दुनिया में दस्तक दे रही रहस्यमयी बीमारी, ले सकती है करोड़ों जाने

दुनिया में एक रहस्यमयी बिमारी ने दस्तक दी है। माना जा रहा है कि इस बीमारी से लाखो नहीं करोड़ों लोगों की जान जा सकती है। ये बीमारी अगले दा-तीन दिनों में दुनियाभर में असर दिखाना शुरू कर सकती है। दुनिया के जाने-माने हेल्थ एक्सपर्ट के एक पैनल की रिपोर्ट के मुताबिक अगर दुनिया इस खतरनाक बीमारी को लेकर अलर्ट नहीं होती है तो ये महामारी बन जाएगी, जिससे पांच से आठ करोड़ लोगों की जान जा सकती है।

0
139

नई दिल्ली। दुनिया में एक रहस्यमयी बिमारी ने दस्तक दी है। माना जा रहा है कि इस बीमारी से लाखो नहीं करोड़ों लोगों की जान जा सकती है। ये बीमारी अगले दा-तीन दिनों में दुनियाभर में असर दिखाना शुरू कर सकती है। दुनिया के जाने-माने हेल्थ एक्सपर्ट के एक पैनल की रिपोर्ट के मुताबिक अगर दुनिया इस खतरनाक बीमारी को लेकर अलर्ट नहीं होती है तो ये महामारी बन जाएगी, जिससे पांच से आठ करोड़ लोगों की जान जा सकती है।

बता दे कि इससे पहले वर्ष 1918 में भी दुनियाभर में स्पेनिश फ्लू नामक बीमारी फैली थी, जिसने करीब पांच करोड़ लोगों की जान ले ली थी। इस रहस्यमयी बीमारी की तुलना भी अब स्पेनिश फ्लू से की जा रही है। मालूम हो स्पेनिश फ्लू ने 1918 से 1920 के दौरान भारत में भी अपना कहर बरपाया था जिससे 1.8 करोड़ लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था।

बताया जा रहा है कि दुनिया मतें वैसी ही बिमारी ने दस्तक दी है। गौर हो वैज्ञानिक और एक्सपर्ट्स पहल ही आगाह कर चुके हैं कि कई अज्ञात बिमारियां विकसित हो रही है। जिससे लाखों लोगों की जान जा सकती है। माना जा रहा है कि ये बीमारी अब फैल रही है। इस बीमारी को खतरनाक फ्लू के तौर पर देखा जा रहा है।

बताया ये भी जा रहा है जिन रोगाणु के जरिए ये फ्लू फैल रहा है, उसे फिलहाल डिजीज एक्स माना गया है, यानि अभी उसके बारे में कुछ ज्यादा जानकारियां नहीं मिल पाई है। लेकिन माना जा रहा है कि ये दुनिया के लिए नया खतरा बन सकती है। हालांकि एक्सपर्ट पैनल की रिपोर्ट में तीन दिनों के भीतर इस बीमारी के पूरी दुनिया को चपेट में लेने की बात कही गई है। खासकर दुनियाभर में विमान यात्रा करने वाले लोग इसे फैलाने में मददगार होंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक अगर समय रहते लोग सचेत नहीं हुए और पर्याप्त समयस में इससे निपटने की तैयारी नहीं की गई तो इससे पांच से आठ करोड़ लोगों की जान दुनिया भर में जा सकती है। रिपोर्ट का कहना है कि इस खतरे में हल्के में लेना ठीक नहीं होगा, क्योंकि ये बीमारी वास्तविक है और विश्व को को इसकी चपेट में आना ही है।

बताया जा रहा है कि इसा फ्लू के रोगाणु बहुत तेज फैलते हैं और सीधे लोगों के सांस लेने के तंत्र पर हमला करते हैं। वहीं दुनिया पहले के मुकाबले कहीं ज्यादा जुड़ गई है, ऐसे में इसका खतरा भी बढ़ गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here