Breaking News

यह हैं महाभारत से जुड़े रहस्यमय श्राप, वचन और आशीर्वाद

Posted on: 26 Jun 2018 12:06 by shilpa
यह हैं महाभारत से जुड़े रहस्यमय श्राप, वचन और आशीर्वाद

नई दिल्ली : महाभारत के रहस्यमय  व्यक्ति यों में हमने कल  बर्बरीक के बारे में कुछ बाते हमने कल देखि थी ..आज हम पांडुपुत्र सहदेव के बारे में कुछ बाते जानते है।

सहदेव : पांच पांडवों में से तिन कुंती पुत्र और दो माद्री-अश्विन कुमार के पुत्र थे। सहदेव को अनेक विशेष शक्तियां प्राप्त थी । उसमेसे एक वो भविष्य में होने वाली हर घटना को पहले से ही जान लेते थे।

वे जानते थे महाभारत  का युद्ध होने वाला है उसमे कौन किसको मारेगा और कौन विजयी होगा लेकिन श्री कृष्णा द्वारा उसे श्राप  दिया था कि अगर वह इस बारे में लोगों को बताएगा तो उसकी मृत्य हो जाएगी।

कैसे मिली शक्ति : सहदेव के धर्मपिता पांडु बहुत ज्ञानी थे। उन्हें अनेक क्षेत्र में महारथ हासिल थी। जब उनकी मृत्यु हुई तब उनकी अंतिम इच्छा थी कि उनके पांचों बेटे उनके मृत शरीर को खाएं ताकि उन्होंने जो ज्ञान अर्जित किया है वह उनके पुत्रों में चला जाए।

प्रेमवश बाकि किसीने ऐसा नही किया किन्तु पिता की अंतिम इच्छा का सम्मान करते हुए हिम्मत दिखाकर पिता के मस्तिष्क के तीन हिस्से खाए। पहला टुकड़ा खाते ही सहदेव को इतिहास का ज्ञान हुआ, दूसरा टुकड़ा खाने से वर्तमान का ज्ञान प्राप्त हुआ और तीसरा टुकड़ा खाते ही वे भविष्य की  हर घटना देखने लगे । इस तरह पिता के आशीर्वाद वे त्रिकाल ज्ञानी बन गये ।

इसी श्रंखला में हम कल तीसरे व्यक्ति के बारे में कुछ रहस्यमय  बाते जानेंगे ।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com