देखिए गुजरात में पानी की बर्बादी पर लग रहा है कितना जुर्माना | Municipal Corporation in Gujarat fining Residents for Wastage of Water

0
34
water

गर्मी के आते ही पानी की किल्लत शुरू हो जाती है। पानी की कमी को देखते हुए जल आपूर्ति समिति से जुडे़ सदस्य भी इस समस्या से निपटने के लिए सक्रिय हो जाते है। गर्मी में सिर्फ पानी की कटौती करने से इस समस्या से नहीं निपटा जा सकता इसके लिए और भी कई कड़े नियमों की आवश्यकता होती है। गुजरात में भी पानी की समस्या से निपटने के लिए कुछ कडे़ नियमों का सहारा लिया जा रहा है।

गुजरात के दाहोद इलाके में पानी की समस्या के चलते नगर निकाय ने कुछ अहम फैसले लिए है जिसके चलते यदि कोई व्यक्ति पानी को बर्बाद करते देखा गया तो उस पर जुर्माना लगाया जाएगा। पानी की बर्बादी को रोकने के लिए निकाय ने एक और कदम उठाया है जिसमें यदि कोई व्यक्ति दो या तीन बार से ज्यादा पानी बर्बाद करते पकड़ा गया तो उसके पानी का कनेक्शन काट दिया जाएगा।

जल आपूर्ति समिति का कहना है कि दाहोद इलाके में पानी की कमी की वजह कडाणा बांध और पाटा डूंगरी नहर में जल का स्तर कम होना है। पानी की कमी होने से यहां पानी की सप्लाई एक दिन छोड़कर की जा रही है और लोगों से पानी बचाने की भी अपील की जा रही है। इसके अलावा नए नियम के चलते पानी बर्बाद करने वालों पर 250 से 500 रुपए तक का जुर्माना लगाया जाएगा और साथ ही कोई व्यक्ति दो से तीन बार पानी बर्बाद करते पकड़ा गया तो उसके पानी का कनेक्शन भी काट दिया जाएगा जिसका उसे कोई नोटिस नहीं दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here