MP Weather: प्रदेश में फिर बढ़ा भीषण गर्मी का प्रकोप, नौतपा दिखाएगा अपना असर, इन जिलों में हीटवेव का अलर्ट जारी

MP Weather: आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज से नौतपा प्रारंभ हो रहा है। नौतपा के पहले से ही टेंपरेचर भी बढ़ने लगा है। पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक टेंपरेचर में दो डिग्री सेल्सियस की वृद्धि देखी जा रही है। हालांकि बुधवार को रीवा, सतना, सिवनी और खजुराहो में बारिश हुई। वहीं मंगलवार को दमोह, नौगांव, रायसेन, इंदौर, ग्वालियर, गुना, खजुराहो, भोपाल, सागर, दतिया में बारिश हुई। जिसकी वजह से टेंपरेचर 40.1 डिग्री था। वहीं सबसे कम टेंपरेचर 25.4 डिग्री सेल्सियस रहा। इसी के साथ मौसम विभाग ने 26 मई से एक बार फिर मौसम में परिवर्तन की संभावना जताई है।

मौसम विभाग ने प्रदेश के लगभग 10 से ज्यादा जिलों में भीषण गर्मी पड़ने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग का यह भी कहना है कि आने वाले दिनों में तापमान में इजाफा हो सकता है।मौसम विभाग ने लोगों को लू जैसी स्थिति से सतर्क रहने की सलाह दी है। वही 2 दर्जन से अधिक जिलों में अधिकतम तापमान 40 डिग्री के पार पहुंच गया है। मौसम विभाग की माने तो 26 और 31 मई को प्रदेश के कुछ हिस्से में बादल छा सकते हैं। साथ ही बारिश होने की संभावना है।

Also Read –  अगले 24 घंटो में प्रदेश के इन 10 जिलों में होगी भारी बारिश, चलेगी आंधी, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

प्रदेश के मौसम का हाल

मध्यप्रदेश के इतिहास के सबसे गर्म सालों में शामिल हो सकता है 2023, ट्रेंड  बता रहा- इस बार सबसे लंबी होगी गर्मी | 2023 may be included in the hottest  years in

वहीं इसी बीच मध्यप्रदेश में भीषण गर्मी का सिलसिला अब तक देखने को मिल है। प्रदेश के इन 10 जिलों में सबसे अधिक टेंपरेचर 44 डिग्री के पार पहुंच गया है। कई जिलों में लू चलने का अलर्ट जारी किया गया है। वहीं कुछ जगहों पर हल्की बारिश होने की संभावना जताई गई है। आज गुरूवार को सुबह से ही शहर में सूर्य की किरणों ने तपिश का अनुभव करवाया। सुबह सात किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चली और न्यूनतम टेंपरेचर 25.4 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। मौसम विभाग का यह भी कहना है कि आने वाले दिनों में तापमान में इजाफा हो सकता है। मौसम विभाग ने लोगों को लू जैसी स्थिति से सतर्क रहने की सलाह दी है। वही 2 दर्जन से अधिक जिलों में अधिकतम तापमान 44 डिग्री के पार पहुंच गया है। मौसम विभाग की माने तो 26 और 31 मई को प्रदेश के कुछ हिस्से में बादल छा सकते हैं। साथ ही बारिश होने की संभावना है।

ये जिले झेल रहें गर्मी की सबसे ज्यादा मार

मध्यप्रदेश में गर्मी ने दिखाये तेवर, बढ़ेगा 10 जिलों का पारा, होगी रिकार्ड  तोड़ गर्मी, जाने मौसम का ताजा हाल

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मध्यप्रदेश में आए दिन भीषण गर्मी का तांडव देखने को मिल रहा हैं। प्रदेश में अब एक बारे फिर सूरज ने अपने तीखें तेवर दिखाने प्रारंभ कर दिए हैं। कई जिलों में सुबह 11 बजे ही टेंपरेचर 40 के पार पहुंच गया है। फिलहाल अभी तक किसी भी तरह का मौसम तंत्र मध्य प्रदेश में अभी सक्रिय नहीं है। हवाएं उत्तर-पश्चिम, पश्चिम दिशा की तरफ बह रही है। यही कारण है कि मध्य प्रदेश में निरंतर टेंपरेचर में वृद्धि देखने को मिल रही है। मौसम स्पेशलिस्ट के अनुसार मंगलवार सुबह से ही निरंतर टेंपरेचर बढ़ता हुआ नजर आ रहा है। यही वजह है कि सुबह 11:30 बजे के करीब ही खजुराहो, नौगांव, टीकमगढ़, दमोह जैसे शहरों में टेंपरेचर 44 डिग्री के पार पहुंच गया था।

इन जिलों में हीटवेव का अलर्ट

MP Weather Update पश्चिमी विक्षोभ की दूरी ने मध्यप्रदेश में बढ़ाई गर्मी  ग्वालियर में राजस्थान की गर्म हवा की दस्तक तापमान 45 के पार - Distance of  western ...

चंबल संभाग के जिलों के साथ ही रतलाम, धार, ग्वालियर, दमोह, सागर, टीकमगढ़, छतरपुर, खरगोन और गुना में लू चलने का येलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि आने वाले दिनों में प्रदेश की अधिकतम तापमान में दो से 3 डिग्री सेल्सियस की क्रमिक रूप से वृद्धि दर्ज हो सकती है। विभाग ने पूरे मध्य प्रदेश के लिए चेतावनी जारी करते हुए बताया है कि प्रदेश के कई हिस्सों में सोमवार से लू चल सकती है।

45 डिग्री पार जा सकता है टेंपरेचर

क्यों संभल जाएं जब आसपास का तापमान 45 डिग्री या ज्यादा होने लगे, जानें क्या  है लू – News18 हिंदी

यहां अधिकांश टेंपरेचर के साथ-साथ प्रदेश के कम से कम टेंपरेचर में भी सर्वाधिक बढ़ोतरी के साथ दर्ज हुआ है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि आने वाले दिनों में प्रदेश का सबसे अधिक टेंपरेचर 45 डिग्री सेल्सियस के पार जा सकता है। लगभग 15 दिनों बाद ऐसा हुआ है, जब मौसम विभाग ने किसी भी जिले में वर्षा न होने का अनुमान जताया है। मौसम विभाग ने अपने बुलेटिन में बताया है कि बुधवार को प्रदेश के सभी जिलों का मौसम शुष्क रहेगा। कहीं भी किसी भी प्रकार की बारिश की हलचल देखने को नहीं मिलेगी।