मध्य प्रदेश (MP) के मौसम (Weather) में परिवर्तन साफ़ नजर आने लगा है। मानसून और बारिश की प्रदेश से जहां विदाई हो चुकी है, वहीं प्रदेश के मौसम में अब हल्की गुलाबी ठंड का अहसास शुरू हो चूका है। एक तरफ जहाँ प्रदेश के विभिन्न जिलों में रात का पारा लुढ़कने लगा है, वहीं सुबह और शाम को भी अब ठंडक का दौर शुरू हो चूका है। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के कई जिलों में रात के समय न्यूनतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस तक गिर चूका है, जोकि प्रदेश के मौसम में अच्छी ठंड की शुरुआत मानी जा रही है।

कैसा रहा राजधानी का तामपान

राजधानी भोपाल में बुधवार सुबह तापमान 14 डिग्री सेल्सियश रिकॉर्ड किया गया। वहीं आर्दता 75 फीसदी पर बनी हुई थी। प्रदेश की आर्थिक राजधानी माने जाने वाले इंदौर में तापमान 14 डिग्री सेल्सियश रिकॉर्ड किया गया. वहीं मध्य प्रदेश की संस्कारधानी माने जाने वाले जबलपुर में सुबह का तापमान 11.4 डिग्री सेल्सियश रिकॉर्ड किया गया। वहीं ग्वालियर में यह 10.4 डिग्री सेल्सियश था. सतना का तापमान 13 डिग्री सेल्सियश रिकॉर्ड किया गया। वहीं सागर में पारा 14.4 डिग्री सेल्सियश पर था। बुधवार सुबह प्रदेश में सबसे अधिक तापमान होशंगाबाद का था, जहां सुबह पारा 25.2 डिग्री सेल्सियश पर था।

Also Read – पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और सांसद नकुल नाथ ने पंडित प्रदीप मिश्रा को कथा के लिए किया आमंत्रित

मौसम वैज्ञानिक के अनुसार

वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक शैलेंद्र नायक ने कहा कि 6 दिसंबर, 2022 तक मध्यप्रदेश का मौसम शुष्क बने रहने की संभावना है। उत्तर पश्चिम से शुष्क और ठंडी हवाएं उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में जारी हैं। पश्चिमी विक्षोभ 01 दिसंबर के आसपास पश्चिमी हिमालय की ओर आ रहा है। हालांकि, मौसम प्रणाली उथली और कमजोर होगी और इसलिए केवल उत्तर भारत के पहाड़ों की ऊंची चोटियों को प्रभावित करेगी। इसका मध्यप्रदेश के मौसम पर कोई प्रभाव पड़ने की कोई संभावना नहीं है।

इस कारण बढ़ रही है ठंड

मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि वातावरण कुछ दिनों तक शुष्क रहेगा. जैसे- जैसे ठंड बढ़ती जा रही है, दिन और रात के तापमान में भी बदलाव आने लगा है। सर्दी का मौसम प्रदेश को प्रभावित करेगा. मध्यप्रदेश के लगभग सभी जिलों में न्यूनतम 10 डिग्री सेल्सियस तक तापमान जाएगा। जानकारी के अनुसार हवाओं की दिशा दक्षिण-पश्चिम है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार पहाड़ों पर बर्फबारी के कारण मौसम भी बदल गया है और ठंड प्रदेश में महसूस होने लगी है।