इंदौर : राष्ट्रीय संत भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को इंदौर स्थित सिल्वर स्प्रिंग टाउनशिप स्थित अपने बंगले में खुद को गोली मारकर खुदकुशी कर ली। उनकी मौत की सूचना के बाद देर रात तक श्रद्धांजलि का सिलसिला चलता रहा।

अंतिम संस्कार से पहले भय्यूजी महाराज का पार्थिव शरीर को आवास से सुखलिया स्थित आश्रम ‘सूर्योदय’ में ले जाया गया था।

उसके बाद उनके पार्थिव शरीर को सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक उनके अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था जहां हजारों भक्तों और भय्यू जी महाराज के समर्थकों का हुजूम अंतिम यात्रा में शामिल हुआ।

फिलहाल भय्यू जी महाराज अपने अंतिम सफ़र पर निकल चुके है। उनकी इस अंतिम यात्रा में हजारों भक्त शामिल हुए है, जो मुक्तिधाम पहुंच चुकी है। बता दे कि उनका अंतिम संस्कार सयाजी मुक्तिधाम में किया गया मुखाग्नि उनकी बेटी कुहू ने दी।

उससे पहले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनिस के ओएसडी श्रीकांत भय्यू महाराज के आश्रम पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि दी. विधायक रमेश मेंदोला, और महेन्द्र हार्डिया भी पहुंचे। इसके साथ ही भय्यू महाराज और डॉ.आरुषी शर्मा की चार माह की बेटी को भी पिता के अंतिम दर्शन के लिए लाया गया था।

LEAVE A REPLY