सुस्त भारतीय अर्थव्यवस्था पर चली मूडीज की कैंची, जीडीपी को बताया नेगेटिव

0
90
GDP

नई दिल्ली। आर्थिक मंदी का सामना कर रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक बुरी खबर सामने आ रही है। रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारत की रेटिंग घटा दी है। बताया जा रहा है कि मूडीज ने भारत को लेकर एक आउटलुक जारी किया है, इसमें ‘स्टेबल‘ (स्थिर) से घटाकर ‘नेगेटिव‘ कर दिया है। इससे मोदी सरकार की मुसीबत बढ़ सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पहले के मुकाबले भारतीय अर्थव्यवस्था में जोखिम बढ़ गया है, इसलिए उसने रेटिंग को घटा दिया है। मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस ने अक्टूबर माह में 2019-20 में जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया था।

पहले मूडीज ने जीडीपी में 6.2 फीसदी की ग्रोथ होने का अनुमान जारी किया था। हालांकि पहले भी कई रेटिंग एजेंसियां भारतीय अर्थव्यवस्था की दर घटा चुकी है। अप्रैल से जून की तिमाही में भारत के जीडीपी में बढ़त महज 5 फीसदी रही है, जो 2013 के बाद सबसे कम है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक देश में कमजोर मांग के चलते अर्थव्यवस्था में गिरावट दर्ज की गई है। एक साल पहले की समान अवधि में जीडीपी में ग्रोथ 8 फीसदी की हुई थी। अक्टूबर महीने में रेटिंग एजेंसी फिच ने इस वित्त वर्ष यानी 2019-20 के लिए सकल घरेल उत्पाद (जीडीपी) में बढ़त के अनुमान को घटाकर सिर्फ 5.5 फीसदी कर दिया। फिच ने कहा कि बैंकों के कर्ज वितरण में भारी कमी आने की वजह से ग्रोथ रेट छह साल के निचले स्तर पर पहुंच सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here