मॉब लिंचिंग का बहुजन क्रांति मोर्चा ने किया विरोध, राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को दिया गया ज्ञापन

0
15
collector

सीहेार। देश में बड़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं से आक्रोशित बहुजन कांति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट पहुंचकर जमकर नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं ने भारतीय विद्यार्थी मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष राजेश मालवीय के नेतृत्व में आठ सूत्रीय मांगों का राष्ट्रपति के नाम का ज्ञापन कलेक्टर अजय गुप्ता को दिया।

भारतीय विद्यार्थी मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष मालवीय ने बताया की मोर्चा के द्वारा देश में मॉब लिंचिंग विरोधी कानून बनाने और घटना में लिप्त आरोपियों को फांसी की सजा देने, राजस्थान की घटना में लिप्त पप्पू मंडल और उस के साथियों को गिरफ्तार किए जाने, मुकदमा फास्ट ट्रेक कोर्ट में चलाकर फांसी की सजा देने, मॉब लिंचिंग में शामिल राजनैतिक दल सस्थाओं और संगठनों की मान्यता रदद करने, एसटी एससी ओबीसी एवं अल्पसंख्यक वर्ग के हित मे कानून बनाकर उनकी रक्षा करने, दोषियों को बचाने वाले पुलिस कर्मियों को नौकरी से हटाने की मांग की जा रहीं है।

मालवीय ने कहा की विगत चार साल में एसटी एससी ओबीसी एवं अल्पसंख्यक वर्ग के साथ 266 मॉव लिचिंग की घटनाएं हुई है। घटनाएं मानवता को शर्मसार करती है। इस में केवल झारखंड राज्य में ही 18 घटनाएं हुई है। यह एक तरह का राजनीतिक षड्यंत्र है । इस में प्रमुख घटना राजस्थान में मुस्लिम युवक की हत्याकर सिर काटना प्रमुख है।

ज्ञापन देने वालों में प्रमुख रूप से बहुजन क्रांति मोर्चा के जिला संयोजक जितेंद्र मालवीय, भारत मुक्त मोर्चा के जिलाध्यक्ष जनम सिंह परमार, भारतीय मुस्लिम मोर्चा के ईशाक खान, संजय मालवीय अतुल कुमार, बबलू मालवीय, संदीप मालवीय, विशाल, धमेंद्र मेवाड़ा, किशन मेंवाड़ा आनंद मेवाड़ा, जितेंद्र मेवाड़ा, प्रदीप धुर्वे संदीप धुर्वे, विशाल भिलाला, साजिद खान, अरविंद धाकड़, सुनील वर्मा, अनिल मालवीय आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here