सांवेर को संवारने सुबह-सुबह निकले मंत्री सिलावट, कचरा बीना और नाली में उतरकर की सफाई

0

इंदौर : लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री तुलसीराम सिलावट ने मंत्री पद से इतर पहले जनसेवक होने की अपनी भूमिका को आज सांवेर में सिद्ध किया। आज सुबह-सुबह सांवेर को सँवारने की मुहिम की अगुवाई की। उन्होंने इस दौरान झाडू से सड़कें बुहारी। नालियों में उतरकर मलबा निकाला और बंद पड़े चैंबरों के ढक्कन खुलवाकर सफ़ाई की। इसके पूर्व सिलावट ने अजनोद चौराहे पर नागरिकों को संबोधित किया और साँवेर को स्वस्थ, शिक्षित और स्वच्छ बनाने के लिए नागरिकों से समर्पण माँगते हुए संकल्प भी दिलाया।

इस दौरान बड़ी संख्या में नागरिक और क्षेत्रीय जन प्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

मंत्री सिलावट ने इस अवसर पर कहा कि सांवेर को जनसुविधाओं की दृष्टि से एक आदर्श शहर बनाने में के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है। उन्होने कहा कि 80 के दशक में जब उन्होने “नर्मदा मैया सांवेर चलो’’ कह कर आंदोलन किया था, तब उनकी बातों पर किसी को विश्वास नहीं था। पर आज यह योजना आकार लेने लगी है।जल्द ही सांवेर में हर घर में माँ नर्मदा का जल आएगा। उन्होंने कहा कि सांवेर की आंतरिक सड़कों के निर्माण के लिए राशि स्वीकृत हो चुकी है। सांवेर क्षेत्र के विभिन्न अस्पतालों का कायाकल्प किया जा रहा है। सिलावट ने नागरिकों से आह्वान किया कि वे आज से प्लास्टिक का उपयोग नहीं करें। सिलावट ने कहा कि कोई भी बड़ा कार्य नागरिकों के सहयोग के बिना पूरा नहीं होगा।उन्होंने त्रेता काल में भगवान श्रीराम द्वारा समुद्र पर पुल बनाए जाने का उल्लेख करते हुए कहा कि जब पुल बनाया जा रहा था तो नल और नील के साथ उस गिलहरी की भी भूमिका थी, जो समुद्र की रेत में लोटकर समुद्र को सुखाने का जतन कर रही थी। ऐसे ही आज इस स्वच्छता अभियान में हम सब अपने-अपने स्तर से सहयोग करें, तभी हम अपने हम अपने उद्देश्य में सफल होंगे।

मंत्री सिलावट ने कपड़े की थैलियां घर घर जाकर बाँटने की शुरुआत भी की। एसडीएम सांवेर रवीश श्रीवास्तव ने बताया कि आज शहर में 15 वार्डों का चयन कर विभिन्न शासकीय विभागों की सहभागिता से दलों का गठन किया गया था और सभी ने मिलकर नगर की सफ़ाई की। मंत्री सिलावट में अस्पताल परिसर में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक भी ली और क्षेत्र के अस्पतालों के उन्नयन तथा चिकित्सा सुविधाओं में बढ़ोतरी की समीक्षा की।