वरिष्ठ पत्रकार चंदा बारगल की अब यादें ही शेष हैं

0
108

अर्जुन राठौर

हिंदी पत्रकारिता जगत के लिए बेहद दुखद खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार चंदा बारगल का कुछ ही समय पहले भोपाल में निधन हो गया निधन का कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है।
चंदा बारगल 1980 से लेकर 90 के दशक के उन पत्रकारों में शामिल थे जिन्होंने अपनी लेखनी के दम पर कई अखबारों में अपना स्थान बनाया अब इस पीढ़ी के लोग भी धीरे-धीरे जा रहे हैं। चंदा बारगल ने कई अखबारों में काम किया और उन्होंने कई बड़े मामले भी उठाए थे।

भोपाल में रहकर इन दिनों वे खबरची डॉट कॉम नामक वेबसाइट चला रहे थे उनसे मेरी मुलाकात पिछले दिनों ही हुई थी जब वे बता रहे थे कि खबरची.काॅम पर कैसी खबरें दे रहे है।

चंदा बारगल से एक रिश्ता लोधी पुरा का भी रहा है वे लोधी पुरा नंबर 1 के कॉर्नर पर रहते थे और उनके घर के ठीक सामने गोपी कृष्ण गुप्ता रहते थे और पास में ही श्री राहुल बारपुते। चंदा बारगल से लोधी पुरा की दोस्ती पत्रकारिता की दोस्ती में बदल गई और फिर लंबे समय तक मैंने भी फ्रीलांस किया।

चंदा को भी देशभर के समाचार पत्रों में लिखने का बहुत शौक था और यही स्थिति मेरी भी थी उन दिनों रविंद्र दुबे चंदा बारगल अवधेश बजाज सहित अनेक पत्रकार संघर्ष कर रहे थे और इन सबके बीच विनोद खुजनेरी जो कि भोपाल में वरिष्ठ पत्रकार हैं तथा मालव समाचार के संपादक हैं वे भी हमारे मिलने के केंद्र हुआ करते थे।

चंदा बारगल को देखकर ऐसा नहीं लगता था कि वे इतनी जल्दी हमारे बीच से चले जाएंगे । हिंदी पत्रकारिता में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। उन्हें नमन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here