हार के बाद मायावती के तीखे तेवर, टूट की कगार पर SP-BSP गठबंधन

0
31
SP BSP

लखनऊ: लोकसभा चुनाव में भाजपा को मात देने के लिए उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा एक साथ आ गए थे लेकिन टिक नहीं पाए। चुनावी नतीजों में मिली हार की समीक्षा सोमवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने की। इस दौरान उन्होंने बड़ा बयान दे दिया। उन्होंने कहा कि गठबंधन से चुनाव में अपेक्षित परिणाम नहीं मिले हैं। उन्होंने यह भी दावा किया कि यादव वोट ट्रांसफर नहीं हो पाया।

इतना ही नहीं मायावती नहीं है तक कह दिया कि अखिलेश यादव अपनी पत्नी और भाई को ही चुनावनहीं जीता पाए। उनके इस बयान के बाद सपा बसपा गठबंधन की कगार पर नजर आ रहा है।

दिल्ली में की समीक्षा

बसपा सुप्रीमो मायावती ने चुनाव में मिली हार की समीक्षा सोमवार को दिल्ली में कार्यकर्ताओं की अखिल भारतीय स्तर पर मीटिंग बुलाई। यूपी के सभी बसपा सांसदों और जिलाध्यक्षों के साथ बैठक में मायावती ने कहा कि पार्टी सभी विधानसभा उपचुनाव में लड़ेगी और अब 50 फीसदी वोट का लक्ष्य लेकर राजनीति करनी है। मायावती ने ईवीएम में धांधली का भी आरोप लगाया।

बसपा सांसद ने भी लगाया धांधली का आरोप

बैठक से पहले बसपा के नव\निर्वाचित सांसद राम शिरोमणि वर्मा ने ईवीएम में धांधली का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि EVM में बड़े पैमाने पर घोटाला हुआ है। हम लोग पहले से कह रहे थे कि चुनाव बैलेट पेपर से होना चाहिए लेकिन हमारी बात ना सरकार ने मानी और ना ही चुनाव आयोग ने। हम चाहते हैं कि बैलेट पेपर से चुनाव कराया जाए, जो निष्पक्ष हो।

चुनाव प्रभारियों की छुट्टी

रविवार को मायावती ने छह राज्यों के लोकसभा चुनाव प्रभारियों की छुट्टी कर दी। इसके साथ ही उन्होंने तीन राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों को भी हटा दिया। मायावती ने उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, राजस्थान, गुजरात और ओडिशा के लोकसभा चुनाव प्रभारियों को हटा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली और मध्य प्रदेश के बीएसपी अध्यक्षों को भी पद से बेदखल कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here