Breaking News

मप्र बजट 2019 : इंदौर-भोपाल के बीच बनेगा एक्सप्रेस-वे

Posted on: 10 Jul 2019 12:21 by Pawan Yadav
मप्र बजट 2019 : इंदौर-भोपाल के बीच बनेगा एक्सप्रेस-वे

भोपाल। मप्र के वित्त मंत्री तरुण भनोत ने बुधवार को विधानसभा में वित्त वर्ष 2019-20 का बजट पेश किया। इस दौरान उन्होंने सदन को संबोधित करते हुए कि 15 साल से राज्य की वित्तीय हालत खराब थी, लेकिन छह माह पुरानी सरकार ने व्यवस्था को पटरी पर लाने के प्रयास किए। सरकार ने राजस्व जुटाने के लिए कई आवश्यक प्रबंध किए हैं। बजट भाषण शुरू होने से पहले विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव ने पेट्रोल-डीजल के दाम को लेकर हंगामा किया।

]ख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि केंद्र सरकार ने मध्यप्रदेश के हिस्से के 2700 करोड़ रूपए कम कर दिए। हाल ही में पेश किए गए केंद्रीय बजट के साथ ही पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ा दिए गए। इसके चलते सरकार को पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाने पड़े। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति ने अपनी व्यवस्था में कहा कि बजट भाषण के पूर्व किसी प्रकार की चर्चा नहीं होती है। उन्होंने सभी सदस्यों से शांतिपूर्ण ढंग से सदन की कार्यवाही संचालित करने में सहयोग करने का अनुरोध किया।

वित्त मंत्री तरूण भनोट द्वारा पेश किए बजट के अंश

साल 18-19 अक्टूबर को मेग्नीफिशएन्ट एमपी का आयोजन इंदौर में होगा। इसके जरिए मध्य प्रदेश में निवेश को आकर्षित किया जाएगा। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना की राशि बढ़ाई गई है। तीन नए मेडिकल कॉलेज खोले जाएंगे। प्रदेश में नई एमएसएमई नीति शुरू होगी। रोजगार गारंटी योजना के तहत सरकार ने युवा स्वाभिमान योजना शुरू की। प्रदेश सरकार ने तीस लाख किसानों का कर्जा माफ किया है। फूड प्रोसेसिंग पर सरकार का फोकस होगा।

महिलाओं के लिए ई-रिक्शा योजना लाई जाएगी। प्रदेश के खान-पान को दुनिया में नई पहचान दिलाई जाएगी। किसानों के लिए कृषक बंधु योजना की शुरू होगी। बागवानी और प्रसंस्करण के लिए 400 करोड़ का प्रावधान। अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्वीमिंग और फुटबॉल एकेडमी शुरू होगी। प्रदेश में तीन नए सरकारी महाविद्यालय शुरू होंगे। अल्पसंख्यक आयोग और मध्य प्रदेश वक्फ वोर्ड, हज कमेटी का अनुदान बढ़ाया गया। इंदौर-भोपाल एक्सप्रेस वे के साथ सेटेलाइट सिटी बनाई जाएंगी। भोपाल, इंदौर और ग्वालियर में बर्न यूनिट बनाई जाएगी।

एएनएम और कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर के खाली पड़े पद भरे जाएंगे। भोपाल में आधुनिक लाइब्रेरी खोली जाएगी। स्कूल शिक्षा विभाग के लिए बजट में 24 हजार करोड़ का प्रावधान। मंदिर की जमीनों को सरकारी निधि से विकसित किया जाएगा। नई गौशालाएं खोली जाएंगी। ग्वालियर और जबलपुर में खाद्य प्रसंस्करण यूनिट स्थापित की जाएंगी। किसानों के बिजली के बिल आधे किए गए। इंदिरा ज्योति योजना से 100 यूनिट बिजली खपत पर 100 रुपए बिजली बिल आ रहा है। कृषक बंधु योजना शुरू की जाएगी। प्रदेश में क्षेत्रीय उत्पादों, जैसे भिंड के पेड़े, सागर की चिरोंजी की बर्फी, मुरैना की गजक का ब्रांडिग की जाएगी। इन उत्पादों के लिए बड़ा बाजार उपलब्ध कराया जाएगा।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com